टोक्यो ओलंपिक्स :महिला हॉकी में वंदना कटारिया की हैट्रिक ने रचा इतिहास ,दक्षिण अफ्रीका को हराया

दिल्ली ,डेस्क रिपोर्ट । टोक्‍यो ओलिंपिक में पुरुष टीम ने जोरदार वापसी कर क्‍वार्टर फाइनल में जगह बनाई। उसी तरह भारतीय महिला टीम ने भी शानदार वापसी करते हुए अंतिम दो मुकाबले जीतकर क्‍वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्‍मीद को कायम रखा है। अंतिम मुकाबले में शनिवार को भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 4-3 से पराजित किया है। इसमें सबसे खास बात इनमें से तीन गोल मप्र के लिए खेल चुकी और मप्र में प्रशिक्षण प्राप्‍त कर चुकी वंदना कटारिया ने किए। खास बात यह है की 37 साल बाद किसी भारतीय खिलाड़ी ने हॉकी मे हैट्रिक लगाई है,वही वंदना पहली भारतीय खिलाड़ी है जिसने यह कमाल दिखाया है।

डिप्रेशन को हरा कमलप्रीत कौर ने रचा टोक्यो ओलंपिक में इतिहास, गोल्ड से बस एक कदम दूर

वंदना कटारिया ने अंतिम मुकाबले में हैट्रिक सहित चार गोल कर बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया। वंदना भोपाल के साई सेंटर में रह चुकी है। वंदना ने मध्‍य प्रदेश अकादमी के खिलाड़ि‍यों के साथ खूब अभ्‍यास किया और लम्‍बे समय से मध्‍य प्रदेश की टीम का प्रतिनिधित्‍व किया है। वंदना बहुत प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं। वर्तमान में वह रेलवे में सेवाएं दे रही हैं। पिछली बार भी वह रियो ओलिंपिक में भारतीय टीम का हिस्‍सा थीं।  भारतीय टीम ने सही समय पर शानदार वापसी ने पदक की उम्मीद जगा दी है । यदि टीम क्‍वार्टर फाइनल में पहुंचने में सफल रहेगी तो, तो यह पदक जीत सकती है। वंदना ने चार, 17 , 19 व 49 मिनट में शानदार गोल दागे थे। इससे पहले मुकाबलों में भारतीय महिला टीम को नीदरलैंडस, ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था।