Twitter के नियमों में फिर हुआ बदलाव, 9 फरवरी से फ्री में नहीं मिलेगी ये सुविधा, कंपनी ने किया ऐलान

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Twitter API New Rule: जब से Elon Musk के हाथों में ट्विटर का मालिकाना अधिकार गया, तब से माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर नए-नए बदलाव हो रहे हैं। हाल ही में कंपनी द्वारा कुछ नए फीचर्स की घोषणा की गई है। यहाँ तक की ब्लू टिक के लिए भी यूजर्स को भुगतान करना होगा। अब एक और नया नियम 9 फरवरी से लागू होने जा रहा है। यह बदलाव ट्विटर एपीआई (Application Programming Interface) को लेकर हुआ है। जिसका असर कई ऐप्स पर पड़ेगा। आने वाले कुछ दिनों में ट्विटर एपीआई की सुविधा फ्री में नहीं मिलेगी। बल्कि इसके लिए एक निर्धारित राशि का भुगतान करना होगा।

ट्विटर ने कही ये बात

ट्विटर ने अपने ट्विटर करते हुए गुरुवार को इस बात की जानकारी दी है और कहा कि ट्विटर दुनिया के सबसे पॉवरफुल डेटा सेट्स में से एक है। करीब एक साल में लाखों लोगों करोड़ों ट्विट किये हैं और एक सप्ताह में प्लाटफॉर्म पर बिलियन्स ट्विट्स होते हैं। कंपनी ने अगले सप्ताह से ट्विटर एपीआई के दोनों v2 और v1.1 के फ्री एक्सेस को बंद करने की घोषणा कर दी है। इसकी जगह एक भुगतान वाला वर्ज़न लाया जाएगा। अलग-अलग ट्रांजैक्शन मेथड के जरिए यूजर्स भुगतान कर पाएंगे। इतना ही नहीं एलॉन मस्क क्रिप्टोकरेंसी में भी भुगतान की सुविधा उपलब्ध करवाने की तैयारी कर रहे हैं।

क्या होता है ट्विटर एपीआई

बता दें कि एपीआई एक प्रोग्रामेटिक एंडपॉइंट्स का सेट होता है, जिसका यूज ट्विटर पर बातचीत को समझने के लिए किया जाता है। इसका इस्तेमाल ट्वीट्स, Spaces, यूजर्स, लिस्ट्स, ट्रेंड, मीडिया, डायरेक्ट मैसेज, स्थान जैसे संसाधनों को खोजने या उन्हें फिर से प्राप्त करने या फिर उन्हें बनाने की अनुमति देता है। इसके जरिए अलग-अलग ऐप्स से कम्यूनिकेशन भी बढ़ता है। इसका इस्तेमाल एड्स में बहुत ज्यादा होता है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News