Nokia ने रचा इतिहास, कंपनी के सीईओ ने किया दुनिया का पहला Immersive फोन कॉल, जानें क्यों है यह खास 

नोकिया ने इमर्सिव ऑडियो वीडियो नामक एक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके फोन कॉल किया है। यह  3D ऑडियो के साथ कॉल की गुणवत्ता में सुधार करता है।

nokia immersive call

Nokia Immersive Call: नोकिया ने मेटावर्स एप्लीकेशन की ओर एक कदम बढ़ाते हुए दुनिया की पहली इमर्सिव कॉल करने करने में सफलता प्राप्त कर ली है। सोमवार को कंपनी कहा सीईओ पेक्क लुंडमार्क ने इमर्सिव ऑडियो वीडियो नामक एक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके फोन कॉल किया है। यह  3D ऑडियो के साथ कॉल की गुणवत्ता में सुधार करता है। जिससे बातचीत रेगुलर  5G स्मार्टफोन कॉल की तुलना में और भी ज्यादा जीवंत लगती है।

लाइव वॉयस कॉलिंग अनुभव में सबसे बड़ी छलांग

कंपनी की सफलता पर नोकिया टेक्नोलॉजी के अध्यक्ष जेनी लुकेंडर ने कहा, ” आज स्मार्टफोन और पीसी में इस्तेमाल होने वाली मोनोफोनिक टेलीफोनी की शुरुआत के बाद  यह लाइव वॉयस कॉलिंग अनुभव में सबसे बड़ी छलांग है।”

क्या है क्या है इमर्सिव फोन कॉलिंग?

इमर्सिव फोन कॉलिंग 5G एडवांस्ड स्टैंडर्ड का ही एक हिस्सा है। जो 3डी ऑडियो और वीडियो तकनीकी का इस्तेमाल करके कॉलिंग की गुणवत्ता को सुधारता है। नोकिया ने सार्वजनिक 5G नेटवर्क स्मार्टफोन का इस्तेमाल करके फिनलैंड के डिजिटलीकरण और नई प्रौद्योगिकियों के राजदूत स्टीफन लिन्डस्ट्रोम के साथ यह कॉल आयोजित की। इसका उपलोग व्यक्ति वीडियो कॉन्फ्रेंस के किए भी कर सकता है। जहां प्रतिभागियों की आवाज और भी बेहतर तरीके से सुनाई देगी। नोकिया इसे भविष्य में बड़े स्तर पर उपलब्ध करवाने के लिए लाइसेंस प्राप्त करने के अवसर ढूंढ रहा है।

वर्तमान स्मार्टफोन कॉल मोनोफ़ोनिक है, जो ऑडियो एलिमेंट्स को एक साथ कंप्रेस करते हैं, जिसे साउंड फ्लैटर और कम डिटेल्ड हो जाता है। लेकिन इमर्सिव फोन कॉल की नई टेक्नोलॉजी 3D ऑडियो का इस्तेमाल करती है, जहां एक कॉल करने वाला सब कुछ ऐसे सुन सकता है जैसे कि मैं दूसरा व्यक्ति उसके सामने ही मौजूद हो। लुकेंडर ने एक इंटरव्यू में कहा, “यह अब मानकीकृत हो रहा है, इसलिए नेटवर्क प्रदाता,  चिपसेट निर्माता, हैंडसेट निर्माता इसे अपने उत्पादों में लागू करना शुरू कर सकते हैं।”

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News