Breaking News
विधानसभा का आखिरी सत्र कल से, 5 दिवसीय सत्र में पूछे जाएंगे 1376 सवाल | मानसून सत्र: सरकार को घेरने विपक्ष की रणनीति तैयार, PCC चीफ बोले- 5 साल का हिसाब मांगेंगे | ग्रामीण से रिश्वत लेते रोजगार सहायक कैमरे में कैद, वीडियो हुआ वायरल | जब आदिवासियों संग मांदल की थाप पर थिरके शिवराज, देखें वीडियो | MP : कांग्रेस में 3 नई समितियों का गठन, चुनाव घोषणा पत्र में कर्मचारी नेता को मिली जगह | BIG SCAM : PNB के बाद एक और बैंक में घोटाला, तीन अधिकारी सस्पेंड | IPS ने बताया डंडे के फंडे से कैसे होगा पुलिसवालों का TENSION दूर! | कपड़े दिलाने के बहाने किया मासूम को अगवा, बेचने से पहले पुलिस ने रंगेहाथों पकड़ा | इग्लैंड में अपना जलवा दिखाने पहुंचे 4 भारतीय दिव्यांग तैराक, इंग्लिश चैनल को करेंगें पार | VIDEO : केरवा कोठी पर भाजपा महिला मोर्चा का प्रदर्शन |

रोजगार मेले में धक्कामुक्की, पंजीयन को तरसे बेरोजगार

भिंड - मनीष ऋषीश्वर

शहर के बाई पास मार्ग के किनारे विश्राम गृह के निकट स्थित चौधरी दिलीप सिंह लॉ कॉलेज परिसर में बुधवार की दोपहर कौशल एवं रोजगार मेला आयोजित किया गया। मेले में जिले के अलावा बाहरी क्षेत्र से आए बेरोजगार युवकों ने अपना बायोडाटा जमा करने के लिए 3 से 4 घंटे तक कतार में रहकर परेशानी का सामना किया इसके अलावा बेरोजगार युवक-युवतियों को शिकायत थी कि मेले में औद्योगिक इकाइयों के नाम पर कुछ भी नहीं था और बड़ी कंपनियां भी नहीं थी जबकि उन्हें बताया गया था कि उन्हें बड़ी

 कंपनियों में नौकरी दिलवाई जाएगी ,लेकिन मेले में आकर उन्हें पता चला कि सिक्योरिटी गार्ड के रुप में नौकरी देकर जिले से 500 से लेकर 700 किलोमीटर दूर तैनाती करके ₹5000 महीने की नौकरी दी जा रही है ,ऐसे में अन्य कोर्सेस किये हुए बेरोजगार युवाओं के साथ एक तरह से छलावा किया जा रहा है ,उनके साथ रोजगार देने के नाम पर छलावा किया गया है। 

रोजगार मेले में पंजीयन न होते देख हुई धक्कामुक्की

मेला परिसर में भीड़ अधिक होने के कारण व्यवस्थित तरीके से लाइन नहीं लग पा रही थी पंजीयन काउंटर पर इकट्ठे हो रहे आवेदक धक्का-मुक्की का सामना भी करते नजर आये हालांकि व्यवस्था बनाए रखने के लिए मैदान में करीब एक दर्जन पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था बावजूद इसके मेले में न सिर्फ पुलिस की लाठी-डंडों का सामना बेरोजगार युवकों ने किया बल्कि तपती दुपहरी में खड़े रहकर शीतल पेयजल के लिए भी युवा वर्ग परेशान नजर आया पेयजल के नाम पर प्लास्टिक की टंकियों में पानी भर दिया गया था जो ठंडा नहीं था ऐसे में कई युवाओं ने बाहर से पानी खरीदकर प्यास बुझाई।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...