Breaking News
फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग | राहुल के भोपाल दौरे पर वीडियो वार..'कांग्रेस हल है या समस्या' | कांग्रेस का शक्ति प्रदर्शन: 11 कन्याओं ने उतारी राहुल की आरती, 21 पंडितों ने किया मंत्रोचार |

रोजगार मेले में धक्कामुक्की, पंजीयन को तरसे बेरोजगार

भिंड - मनीष ऋषीश्वर

शहर के बाई पास मार्ग के किनारे विश्राम गृह के निकट स्थित चौधरी दिलीप सिंह लॉ कॉलेज परिसर में बुधवार की दोपहर कौशल एवं रोजगार मेला आयोजित किया गया। मेले में जिले के अलावा बाहरी क्षेत्र से आए बेरोजगार युवकों ने अपना बायोडाटा जमा करने के लिए 3 से 4 घंटे तक कतार में रहकर परेशानी का सामना किया इसके अलावा बेरोजगार युवक-युवतियों को शिकायत थी कि मेले में औद्योगिक इकाइयों के नाम पर कुछ भी नहीं था और बड़ी कंपनियां भी नहीं थी जबकि उन्हें बताया गया था कि उन्हें बड़ी

 कंपनियों में नौकरी दिलवाई जाएगी ,लेकिन मेले में आकर उन्हें पता चला कि सिक्योरिटी गार्ड के रुप में नौकरी देकर जिले से 500 से लेकर 700 किलोमीटर दूर तैनाती करके ₹5000 महीने की नौकरी दी जा रही है ,ऐसे में अन्य कोर्सेस किये हुए बेरोजगार युवाओं के साथ एक तरह से छलावा किया जा रहा है ,उनके साथ रोजगार देने के नाम पर छलावा किया गया है। 

रोजगार मेले में पंजीयन न होते देख हुई धक्कामुक्की

मेला परिसर में भीड़ अधिक होने के कारण व्यवस्थित तरीके से लाइन नहीं लग पा रही थी पंजीयन काउंटर पर इकट्ठे हो रहे आवेदक धक्का-मुक्की का सामना भी करते नजर आये हालांकि व्यवस्था बनाए रखने के लिए मैदान में करीब एक दर्जन पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था बावजूद इसके मेले में न सिर्फ पुलिस की लाठी-डंडों का सामना बेरोजगार युवकों ने किया बल्कि तपती दुपहरी में खड़े रहकर शीतल पेयजल के लिए भी युवा वर्ग परेशान नजर आया पेयजल के नाम पर प्लास्टिक की टंकियों में पानी भर दिया गया था जो ठंडा नहीं था ऐसे में कई युवाओं ने बाहर से पानी खरीदकर प्यास बुझाई।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...