'कर्जमाफी' के बाद गूंजेगा 'गोलीकांड', चौथे चरण की सीटों पर गर्माएगा मुद्दा

भोपाल। रामेश्वर धाकड़ | प्रदेश में मालवा-निमाड़ की आठ लोकसभा सीटों पर 19 मई को मतदान होना है। इस क्षेत्र में किसान गोलीकांड एक फिर बड़ा चुनावी मुद्दा बनेगा, जिसकी गूंज देश भर में सुनाई दे सकती है। मुद्दा गर्माने से पहले भाजपा ने कर्जमाफी को लेकर कांगे्रस की घेराबंदी शुरू कर दी है। प्रदेश में पहले एवं दूसरे चरण के मतदान होने तक भाजपा ने कर्जमाफी के मुद्दे को उस तरह से नहीं उठाया, जिस तरह से अभी उठाया जा रहा है। 

दरअसल, चौथे चरण के लोकसभा क्षेत्र देवास, उज्जैन, इंदौर, मंदसौर, रतलाम, धार, खरगौन , खंडवा में किसान बड़ा मुद्दा होगा। कांग्रेस ने जहां गोलीकांड को लेकर भाजपा को घेरने की रणनीति बनाई है। वहीं भाजपा कर्जमाफी को मुद्दा बनाने में जुटी है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा कर्जमाफी के मुद्दे को जिस तरह से उठाया है, वह भाजपा की चुनावी रणनीति का हिस्सा है। क्योंकि सत्ता से बेदखल होने के बाद भाजपा के बाद मालवा-निमाड़ में किसानों की कर्जमाफी से बड़ा कोई मुद्दा है। न ही मोदी सरकार की किसानों के हित में ऐसी कोई उपलब्धि है, जिसे भाजपा अपने गढ़ मालवा-निमाड़ में भुना सके। भाजपा सूत्र बताते हैं कि 11 मई से आखिरी चरण के लोकसभा क्षेत्रों में चुनावी सभाओं में तेजी आएगी। 


विधानसभा में हो चुका है नुकसान 

मंदसौर गोलीकांड का भाजपा को विधानसभा चुनाव में नुकसान झेलना पड़ा था। ग्वालियर-चंबल के बाद भाजपा को सबसे ज्यादा नुकसान मालवा-निमाड़ में ही उठाना पड़ा था। यही वजह है कि भाजपा गोलीकांड पर कांगे्रस को करारा जवाब देने के मूड में है। कर्जमाफी के मुद्दे को मप्र भाजपा के नेताओं से लेकर प्रधानमंत्री मोदी तक उठाएंगे। वर्तमान में मालवा-निमाड़ की आठ लोकसभा सीटों में से कांगे्रस के पास एक सीट रतलाम है। 


गृहमंत्री को जवाब बनाएगी आधार 

भाजपा ने कमलनाथ सरकार द्वारा विधानसभा में गोलीकांड को लेकर जो जवाब दिया, उसको भी चुनाव में आधार बनाने की तैयारी की है। सूत्र बताते हैं कि गृहमंत्री बाला बच्चन ने मंदसौर गोलीकांड पर शिवराज सरकार को क्लीनचिट देने वाला जवाब दिया था। जिस पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने नाराजगी जताई थी।

"To get the latest news update download the app"