युवा नेता मितेंद्र दर्शन सिंह के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने घेरी कमिश्नरी, पुलिस ने चलाई वाटर केनन

ग्वालियर।  विधानसभा चुनावों की तैयारियों में जुटी कांग्रेस  पिछले कुछ दिनों से प्रदेश सरकार के खिलाफ लगातार आन्दोलन कर रही है । कांग्रेस का आरोप है कि सरकार अपने वादों पर पूरी तरह फेल हो चुकी है।  ग्वालियर में शुक्रवार को  कांग्रेसियों का उत्साह युवा नेता मितेंद्र दर्शन सिंह के नेतृत्व में बरसते पानी में देखने लायक था । कांग्रेस नेताओं ने प्रदेश सरकार की नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन किया । सैंकड़ों की संख्या में युवा कांग्रेसी वरिष्ठ नेताओं के साथ कमिश्नरी का घेराव करने पहुंचे।  पुलिस ने कांग्रेसियों को रोकने का प्रयास किया तो उन्होंने बेरिकेड्स तोड़ दिए। माहौल बिगड़ता देख पुलिस ने वाटर केनन का इस्तेमाल कर उन्हें रोका और कुछ नेताओं को गिरफ्तार कर ले गई।   

युवा कांग्रेस के कार्यकारी जिला अध्यक्ष मितेंद्र दर्शन सिंह ने पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत शुक्रवार को सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया और मोतीमहल स्थित कमिश्नर कार्यालय का घेराव किया।  युवा कांग्रेसी अपने वरिष्ठ नेताओं के साथ भीगते पानी में लक्ष्मी बाई की समाधि  के सामने इकठ्ठा हुए और वहां से पैदल प्रदर्शन करते हुए मोतीमहल पहुंचे और कमिश्नर कार्यालय का घेराव किया।  मौजूद लोगों को सम्बोधित करते हुए मितेंद्र दर्शन सिंह ने अपना 15  सूत्रीय मांग पत्र पढ़ते हुए कहा कि  प्रदेश में अपराध बढ़ रहे हैं , बेरोजगारी बढ़ रही है , रोजगार नहीं है, किसान परेशान हैं  , भर्ती परीक्षाओं में धांधली हो रही और सरकार कहती है कि  प्रदेश तरक्की कर रहा है।  उन्होंने प्रदेश सरकार को हर मोर्चे पर विफल होने का आरोप लगाया।  मितेंद्र ने कहा कि ग्वालियर में पीने के लिए साफ़ पानी नहीं है, सड़कों का हाल बुरा है, बिजली कम्पनी आंकलित खपत के नाम पर लूट कर रही है जबकि और सरकार कहती है कि प्रदेश तरक्की कर रहा है। सभा को पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल, जिला अध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा सहित कई अन्य नेताओं ने भी संबोधित किया।

 सभा के  बाद कांग्रेसी ज्ञापन देने आगे बढे तो धक्का मुक्की शुरू हो गई।  कुछ युवा नेता उत्साह में आकर बेरिकेड्स पर चढ़ गए और उन्हें तोड़ दिया , मौके पर मौजूद पुलिस ने कांग्रेसियों  को रोकने का प्रयास किया लेकिन वो और उग्र हो गए. इसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किये लेकिन जब इसके बाद भी कांग्रेस नेता नहीं माने तो फिर पुलिस ने वाटर केनन चलाकर उन्हें खदेड़ दिया।  ज्ञापन के बाद पुलिस ने मितेंद्र दर्शन सिंह सहित अन्य कार्यताओं को गिरफ्तार करने का प्रयास किया लेकिन  प्रदर्शनकारियों  की तुलना में पुलिस के पास वाहनों की व्यवस्था कम  होने के कारण उसने गिरफ़्तारी की औपचारिकता निभाई और कुछ मितेंद्र के साथ कुछ नेताओं को पुलसि वाहन में बैठाकर फूलबाग मैदान में लाकर छोड़ दिया।

 मितेंद्र ने कराया ताकत का अहसास 

मितेंद्र अपने पिता दर्शन सिंह की मृत्यु के बाद जबसे कांग्रेस में आये हैं तभी से सक्रिय हैं । और लगातार स्थानीय प्रशासन के साथ साथ प्रदेश सरकार के खिलाफ भी आन्दोलन कर रहे हैं । आज का आन्दोलन भी उसी कड़ी का हिस्सा है । जानकार बताते हैं कि मितेंद्र ग्वालियर पूर्व से विधानसभा का टिकट चाहते हैं। सभी जानते हैं कि वो ज्योतिरादित्य सिंधिया की पसंद है और उन्हें युवा कांग्रेस कोटे से टिकट दिया जा सकता है। आज का आन्दोलन उसी हिसाब से ताकत का अहसास कराने का प्रयास था। दावा किया गया है कि प्रदर्शन में लगभग 5 हजार कांग्रेसी शामिल थे।

प्रदर्शन में मितेंद्र दर्शन सिंह के अलावा  पूर्व विधायक रामबरन सिंह गुर्जर , पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल , जिला अध्यक्ष डॉ देवेंद्र शर्मा, युवा  कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष पवन जैसवाल पूर्व जिला अध्यक्ष अशोक शर्मा , जिला सचिव कुलदीप कौरव , वरिष्ठ नेत्री रश्मि पवार सहित सैंकड़ों युवा एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता और नेत्री शामिल थे।