शिक्षा विभाग का अकाउंटेंट 15 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथों पकड़ाया

मंदसौर। मध्य प्रदेश के मंदसौर में लोकायुक्त की टीम ने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में एक अकाउंटेंट को रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया है| अकाउंटेंट एक निजी स्कूल संचालक से स्कूल की मान्यता नवीनीकरण के नाम पर रिश्वत मांग रहा था| जिसकी शिकायत उज्जैन लोकायुक्त से की गई थी| जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है| लोकायुक्त पुलिस ने अकाउंटेंट को रनेहाथों पकड़ा है| 

जानकारी के मुताबिक, शुक्रवार को जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में स्कूल की मान्यता नवीनीकरण के नाम पर 15 हजार रुपए की रिश्वत लेते अकाउंटेंट मनीष मोर्य पकड़ा गया| उज्जैन लोकायुक्त की टीम ने यह कार्रवाई की| शामगढ़ के सरस्वती कान्वेंट स्कूल संचालक राजेश जोशी निवासी शामगढ़ ने अपने स्कूल की मान्यता के नवीनीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था। इसके बाद स्कूल संचालक राजेश जोशी ने शिक्षा विभाग में बाबू मनीष मोर्य से संपर्क किया| मनीष मोर्य ने जोशी से स्कूल के नवीनीकरण और मान्यता दिलाने के नाम पर 20 हजार रूपये की मांग की।

स्कूल की मान्यता के नवीनीकरण का सौदा 15 हजार पर तय हुआ| जिसके बाद स्कूल संचालक ने लोकायुक्त उज्जैन कार्यालय में शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत की तस्दीक के बाद  शुक्रवार को लोकायुक्त पुलिस ने राजेश को 15 हजार रुपए देकर मनीष के पास पहुंचाया। यहां जैसे ही मनीष ने 15 हजार रूपये लियेे, लोकायुक्त पुलिस ने मनीष को रंगे हाथों पकड़ लिया| 

"To get the latest news update download tha app"