विराट कोहली और टीम इंडिया को झाबुआ का 'कड़कनाथ' खाने की सलाह

झाबुआ। सीबी सिंह। 

सिडनी में इंडिया और आस्ट्रेलिया के बीच मौजूदा सीरीज का चौथा क्रिकेट मैच खेला जायेगा, लेकिन उसके ठीक पहले एमपी के झाबुआ स्थित कृषी विज्ञान केंद्र और कडकनाथ रिसर्च सेंटर ने विराट कोहली को अपना आफिशियल लेटर पोस्ट करते हुऐ ट्वीट किया है कि फैट ओर कोलेस्ट्राल के डर से अगर विराट कोहली और टीम इंडिया के कुछ खिलाड़ी ग्रिल्ड चिकन खाना छोड़कर वेगल डाइट पर उतर चुके है तो वे बिना डरे " झाबुआ का कडकनाथ" चिकन खा सकते हैं। 

जिसमें ना के बराबर फैट और कोलेस्ट्राल होता है अपने लेटरहैड के साथ लिखे इस आफिशियल पत्र में निदेशक डाक्टर आईएस तोमर ने लिखा है कि झाबुआ का कडकनाथ में आयरन और ल्यूरिक एसिड पर्याप्त मात्रा में होता है और फैट, कोलेस्ट्राल नहीं के बराबर होता है। ट्वीटर के अलावा मैन्युअल पत्र भी BCCI की ओर से विराट कोहली को भेजा गया है। अपने पत्र के समर्थन में झाबुआ के कृषी विज्ञान केंद्र ने नेशनल मीट रिसर्च संस्थान हैदराबाद की रिपोर्ट की प्रति भी ट्वीट की है जो आम चिकन और कडकनाथ चिकन में मौजूद फैट - प्रोटीन - कोलेस्ट्राल आदि के अंतर को दर्शाती है ।

इस संबध मे ट्वीट कर चिट्ठी लिखने वाले संस्थान कृषि विज्ञान केंद्र के निदेशक डाक्टर आइ एस तोमर ने बताया कि उन्होंने कुछ मीडिया रिपोर्ट मे पढा था कि विराट कोहली अपनी हेल्थ को लेकर बहुत संजीदा है ओर अपने पसंदीदा ग्रिल्ड चिकन को फैट ओर कोलेस्ट्राल के कारण छोडकर " वेगल डाइट" अपना चुके है इसलिऐ देश हित मे उनके मन मे विचार आया ओर सुझाव आफिसियली दे दिया .. तोमर को उम्मीद है कि विराट कोहली ओर बीसीसीआई उनके सुझाव को देश हित मे मानेगी ।





"To get the latest news update download tha app"