बढ़ेगी कारों की सेफ्टी, 22 अगस्त को लॉन्च होगा Bharat NCAP, पैसेंजर वाहनों के लिए बदल गए नियम

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Automobile News: देशभर में कारों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए सरकार ने बड़ी योजना बनाई है। अब भारत में कारों की सेफ्टी रेटिंग मिलेगी, इसके लिए 22 अगस्त को सरकार “भारत न्यू कार असेस्मेंट प्रोग्राम (Bharat NCAP) लॉन्च करने जा रही है। इसकी जानकारी 20 अगस्त रविवार को रोड, ट्रांसपोर्ट एन्स हाइवेज मिनिस्ट्री ने दी है।

पैसेंजर वाहनों के लिए नए नियम

अब देश में निर्मित और बिकने वाले वाले पैसेंजर वाहनों को नए सेफ़्टी नियमों का पालन करना होगा। नए नियम 1 अक्टूबर से लागू होंगे। सरकार के मुताबिक नए सेफ़्टी रेगुलेशन के जरिए अधिक सुरक्षित कारों की डिमांड बढ़ सकती है। नए नियमों के तहत पैसेंजर कारों (MI 8 सीटर) में 6 एयरबैग्स अनिवार्य होंगे। इस फैसले से पैसेंजर्स की सेफ़्टी बढ़ जाएगी। बता दें कि वर्तमान पैसेंजर्स व्हीकल्स में केवल 2 एयरबैग्स अनिवार्य हैं। लेकिन अब 4 अन्य Airbags को जोड़ने का निर्देश दिया गया है, इसकी कीमत करीब 8-10 हजार रुपये तक होगी।

सड़क सुरक्षा के लिए Bharat NCAP जरूरी

भारत एनसीएपी को सरकार ने सड़क सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण निर्णय बताया है। इसके जरिए कार खरीददारों के लिए मार्केट में उपलब्ध कारों की क्रैश सेफ़्टी का आकलन करना आसान होगा। वाहन निर्माता अपनी मर्जी के अनुसार करो की टेस्टिंग करवाने में सक्षम होंगे। क्रैश टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन करने वाली कारों को स्टार रेटिंग मिलेगी, जिसे देखकर ग्राहक आसानी से सेफ़्टी स्टैंडर्ड्स की पहचान और तुलना कर पाएंगे।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News