आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और स्व सहायता समूहों के लिए शिवराज सरकार की बड़ी घोषणा

वही आंगनवाड़ी केंद्र में बच्चों के हित में फैसले लेते हुए मंत्री सकलेचा ने बड़ा ऐलान किया है।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं (aanganvadi workers) और स्व सहायता समूह (self help group) को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रदेश सरकार ने कमर कस ली है। इसके लिए विभिन्न मोर्चों पर नवीन पहल किए जा रहे हैं। वहीं ग्रामीण महिलाओं को समूह से जोड़कर स्वरोजगार की तरफ बढ़ाया जा रहा है। सीएम शिवराज (CM Shivraj) की महत्वाकांक्षी योजना आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश (aatmnirbhr madhya pradesh) को सक्रिय रूप देने के लिए स्व सहायता समूह को रोजगार उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

इसी सिलसिले में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा (om prakash Saklecha) ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और स्व सहायता समूह की महिलाओं के लिए बड़ी घोषणा की। मंत्री सकलेचा ने कहा कि स्व सहायता समूह को सशक्त बनाने के लिए स्कूल के बच्चों के यूनिफॉर्म (uniform) बनाने का कार्य उन्हें सौंपने का विचार किया जा रहा है। जिससे महिलाओं के समूह के माध्यम से स्व रोजगार तो मिलेगा साथ ही उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा।

इसके साथ ही मंत्री सकलेचा ने कहा कि स्वरोजगार के लिए महिलाएं स्थानीय स्तर पर प्रशिक्षण प्राप्त कर लें और अच्छी गुणवत्ता के साथ सिलाई कढ़ाई का कार्य सीख ले। मंत्री सकलेचा ने स्वयं सहायता समूह को आश्वासन दिया है कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के तहत महिला स्व सहायता समूह को लगभग एक करोड़ की राशि का गणवेश सिलाई का कार्य सौंपा जाएगा।

Read More: ज्योतिरादित्य सिंधिया का वार, महापंचायत के नाम पर नाटक नौटंकी कर रही है कांग्रेस

वही आंगनवाड़ी केंद्र में बच्चों के हित में फैसले लेते हुए मंत्री सकलेचा ने बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्रों को बच्चों के लिए रुचिकर बनाना है। इसके लिए विधायक निधि से मदद की जाएगी। आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चों के लिए खेल सामग्र, खिलौने और अन्य संसाधन उपलब्ध कराए जाएंगे। जिससे बच्चे प्रतिदिन आंगनवाड़ी केंद्रों में आए।

इसके अलावा आशा कार्यकर्ताओं की सराहना करते हुए मंत्री सकलेचा ने कहा कि आशा कार्यकर्ता स्वास्थ्य कार्यक्रम में महत्वपूर्ण दायित्व निभा रही हैं। वहीं उन्होंने आशा कार्यकर्ताओं से अपील की है कि कोरोना वैक्सीन के प्रति जन जागरूकता का प्रयास करें और लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए प्रेरित करें।