पार्टी से निष्कासित नेता का कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को लेकर बड़ा खुलासा

आजाद सिंह डबास ने कहा कि अगर पार्टी ने अपने अंदर कोई उचित बदलाव की पहल नहीं की तो 2023 तक भी विपक्ष में ही रहेगी और 2023 के चुनाव में 50 का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाएगी।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में कांग्रेस (congress) के अंदर अंदरूनी मसले बढ़ते जा रहे हैं। लगातार नेताओं पर पार्टी विरोधी गतिविधि और भितरघात करने के आरोप लगाकर कांग्रेस नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा रही है। हालांकि पार्टी से निष्कासित नेता लगातार पार्टी मुख्यालय पत्र लिखकर उचित कारण की मांग कर रहे हैं। ऐसे में पार्टी से बाहर हुए नेता पार्टी के खिलाफ कई तरह के खुलासे भी करते नजर आ रहे हैं। बीते दिनों ऐसा ही बड़ा खुलासा कांग्रेस से निष्कासित रिटायर्ड आईएएस अफसर आजाद सिंह डबास (IAS officer Azad Singh Dabas) ने किया है। आजाद सिंह डबास ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Former Chief Minister Kamal Nath) और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह (Rajya Sabha MP Digvijay Singh) पर जमकर आरोप लगाए हैं।

दरअसल रिटायर्ड आईएएस आजाद सिंह डबास ने अपने निष्कासन के पीछे का कारण जानने के लिए पार्टी उपाध्यक्ष और संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर (Chandraprabhash Shekhar) को पत्र लिखा है। इसके साथ ही डबास ने चेतावनी दी है कि अगर उनके निष्कासन का स्पष्टीकरण पार्टी ने नहीं दिया तो वह केंद्रीय नेतृत्व (Central leadership) को एमपी में कांग्रेस के पिछले 15 महीने के भ्रष्टाचार और सरकार गिरने की असली वजह भी बताएंगे। आजाद सिंह डबास ने कहा कि मध्यप्रदेश में कमलनाथ और दिग्विजय सिंह जैसे नेताओं ने पार्टी को बर्बाद करने का कार्य किया है। डबास ने कहा कि पार्टी पर दोनों में से किसी नेता ने ध्यान नहीं दिया इन दोनों नेताओं का ध्यान अपने पुत्रों पर था और पुत्र मोह के कारण यह पार्टी को डूबा रहे हैं।

प्रदेश कांग्रेस की रीति और नीति को लेकर भविष्य की चर्चा करते हुए रिटायर्ड आईएएस आजाद सिंह डबास ने कहा कि अगर पार्टी ने अपने अंदर कोई उचित बदलाव की पहल नहीं की तो 2023 तक भी विपक्ष में ही रहेगी और 2023 के चुनाव में 50 का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाएगी।

Read More: Madhya Pradesh : शिवराज सिंह चौहान के इस फैसले पर कमलनाथ ने उठाए सवाल

इतना ही नहीं अपने पक्ष को मजबूती से रखते हुए रिटायर्ड आईएएस आज़ाद सिंह डबास ने कहा कि उन्होंने पार्टी की रीति और नीति से विरुद्ध कोई कार्य नहीं किया है। पार्टी में कमलनाथ और दिग्विजय सिंह जैसे लोग असंतोष फैला रहे हैं। साथ ही रिटायर्ड आईएएस ने कहा कि वह पार्टी में टाइमपास के लिए नहीं पहुंचे थे। वो पार्टी में अपना बहुमूल्य योगदान देने आए थे लेकिन उनके सुझावों को लगातार पार्टी ने नकारने का काम किया है। इसके साथ ही आजाद सिंह डबास ने कहा कि पार्टी अपने अंदर कोई सकारात्मक सुधार करना ही नहीं चाहती है। इसलिए पार्टी के अंदर कई फर्जी रिटायर्ड आईएएस शामिल हो गए हैं।

बता दें कि 20 नवंबर को मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संगठन प्रभारी उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर ने रिटायर्ड आईएएस आजाद सिंह डबास को कांग्रेस पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से 6 वर्ष के लिए निष्कासित कर दिया था। रिटायर्ड आईएएस आजाद सिंह डबास पर कांग्रेस ने कार्रवाई करते हुए बताया था कि कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के संयोजक के रूप में कार्य करते हुए डबास ने पिछले कुछ समय से पार्टी की रीति नीति के खिलाफ कार्य किया था। जिससे पार्टी की छवि धूमिल हो रही थी।

अब इस मामले में रिटायर्ड आईएएस आजाद सिंह डबास ने कांग्रेस पार्टी के दो दिग्गजों पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। रिटायर्ड आईएएस आजाद सिंह डबास पार्टी हाईकमान से इन दोनों नेताओं और मध्य प्रदेश सरकार में रहते हुए कांग्रेस के घोटाले को उजागर करने की चेतावनी दे रहे हैं। ऐसे में पार्टी निष्कासन को लेकर अब कांग्रेस आजाद सिंह डबास को क्या स्पष्टीकरण देती है। यह देखना दिलचस्प होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here