सोयाबीन किसानों को बड़ी राहत, भावों में हुई रिकॉर्ड बढ़ोतरी

प्रतिदिन औसत 50 क्विंटल तक की आवक हो रही है जबकि सोयाबीन की मांग इससे भी अधिक है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पिछले साल बारिश (rain) और अतिवृष्टि की वजह से बर्बाद हुए सोयाबीन (soyabean) के किसानों (farmers) के लिए राहत भरी खबर है। दरअसल अभी के समय में सोयाबीन किसानों के लिए बड़ी राहत बनकर उभरी है। जहां आवक कम और मांग अधिक होने की वजह से लगातार इस के दामों में वृद्धि देखी जा रही है। इसके साथ ही पिछले साल जिन किसानों ने सोयाबीन की फसल नहीं बेचीं वो अब अपनी फसल बेचकर मालामाल हो रहे हैं।

दरअसल राजधानी भोपाल के करोंद मंडी (karond mandi) में सोयाबीन के भाव रिकॉर्ड पर पहुंच गए हैं। गुरुवार को करोंद मंडी में सोयाबीन की फसल प्रति क्विंटल 6263 रुपए बिकी है। बता दें कि पिछले डेढ़ महीने में सोयाबीन की फसल पर लगभग 1200 प्रति क्विंटल का इजाफा देखने को मिला है। बता देगी फरवरी मार्च के महीने में सोयाबीन 5000 रुपए प्रति क्विंटल से कम भाव में बिक रहे थे लेकिन अब इसकी कीमत 6200 के पास पहुंच रही है।

Read More: नमामि नर्मदे योजना में 80 लाख की गड़बड़ी, राज्य शासन ने प्रभारी उप-संचालक को किया निलंबित

इस मामले में अनाज व्यापारियों का कहना है सोयाबीन के भाव कभी भी इतने ज्यादा नहीं बढ़े हैं। इस समय भाव में तेजी है और आगे भी यह जारी रह सकता है। हालांकि जितने आवक हैं। उस मुताबिक मांग अधिक है। प्रतिदिन औसत 50 क्विंटल तक की आवक हो रही है जबकि सोयाबीन की मांग इससे भी अधिक है।

ज्ञात हो कि पिछले साल बारिश और अतिवृष्टि की वजह से सोयाबीन की फसल बर्बाद हो गई थी। वहीं पर उत्पादन भी कम रिकॉर्ड किया गया था। हालांकि तब भी कुछ किसानों ने अपनी फसल को सहेज कर रखी थी। जिसे अब वह मंडी में बेच रहे हैं। अब सोयाबीन की फसल को मंडी में बेचना किसानों के लिए किसी उपहार जैसा है।