उम्मीदवारों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें: मतदाताओं ने लगाए बैनर “रोड नहीं तो वोट नहीं”

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। मध्यप्रदेश की 27 सीटों पर होने वाले उपचुनावों के लिए भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां जोर आजमाइश में लग गई हैं। लेकिन मतदाता भी अपने इरादे जाहिर करने लगे हैं। खराब सड़क से परेशान शहर की एक बड़ी कॉलोनी के मतदाताओं ने भी अपने यहाँ बैनर लगा दिया है कि रोड नहीं तो वोट नहीं।

प्रदेश की जिन 27 सीटों पर उप चुनाव होना है उसमें ग्वालियर जिले की ग्वालियर विधानसभा भी शामिल है जहाँ से प्रदेश के ऊर्जा मंत्री भाजपा के प्रत्याशी हैं जबकि कांग्रेस का उम्मीदवार अभी तय नहीं हुआ है। इसी विधानसभा क्षेत्र में आती है शहर की एक बड़ी कॉलोनी आनंदनगर। कॉलोनी तो बहुत पुरानी है लेकिन इसके कई हिस्सों के लोग सड़क जैसी बुनियादी सुविधा के लिए परेशान हैं। वे नगर निगम, जिला प्रशासन के अधिकारियों से लेकर जन प्रतिनिधियों तक से गुहार लगा चुके हैं लेकिन उनके यहाँ की सड़क नहीं बन रही। अनदेखी से परेशान करीब आधा सैकड़ा लोग सोमवार को सड़क पर आ गए और उन्होंने बैनर लगा दिये कि सड़क नहीं तो वोट नहीं।

लक्ष्मी वाटिका रोड पर रहने वाले दीपू ठाकुर,रामबरन राठौर,रामवीर गुर्जर, विक्की चौहान,तरुण शर्मा और गजेंद्र सिकरवार के मुताबिक वे क्षेत्र के पूर्व विधायक एवं ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर से भी निवेदन किया लेकिन उन्होंने भी ध्यान नहीं दिया। यदि जल्दी ही सड़क नहीं बनी तो कोई भी वोट नहीं डालेगा। स्थानीय लोगों ने बताया की कांग्रेस से टिकट के दावेदार सुनील शर्मा भी हमारे पास आये थे हैं लोगों ने कह दिया कि हमें आश्वासन नहीं काम चाहिए। बहरहाल ग्वालियर विधानसभा में आने वाले आनंदनगर के मतदाताओं ने नाराजगी की शुरूआत कर दी है हो सकता है ऐसी और नाराजगी जिले की दूसरी विधानसभाओं ग्वालियर पूर्व और डब्रा से भी देखने को मिले। अच्छा तो ये होगा कि उम्मीदवार खुद जाकर क्षेत्र की समस्यायें देखे और उन्हें दूर करे वरना यदि मतदाता नाराज हो गया तो उसे मुश्किल हो जायेगी।