मप्र में एक्टिव केस 1 लाख पार, सीएम शिवराज सिंह बोले-गांव शहर में छुपे मरीजों की करें पहचान

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना को छुपाएँ नहीं बताएँ। शुरू में ही दवा प्रारंभ होने पर यह बीमारी ठीक हो जाती है, परन्तु विलंब करने पर जानलेवा हो जाती है।

Cabinet Meeting

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में कोरोना संक्रमितों (Coronavirus) का आंकड़ा 1 लाख के पार पहुंच गया है। कई जिलों में 17 मई तक कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) लगाया गया है, बावजूद इसके आंकड़ों को देखते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने कहा है कि कोविड के विरूद्ध अभियान को प्रदेश में जन-आंदोलन बनाया जाए। इसमें समाज के सभी वर्गों को जोड़ा जाए। गाँव-गाँव, शहर-शहर सर्वे कर एक-एक छुपे मरीज की पहचान की जाए तथा उसे दवा देकर स्वस्थ किया जाए।

यह भी पढ़े.. दमोह उपचुनाव: जयंत मलैया पर कारवाई के विरोध में भाजपाई, राहुल लोधी पर उठाये सवाल

आज कोरोना समीक्षा बैठक में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना को छुपाएँ नहीं बताएँ। शुरू में ही दवा प्रारंभ होने पर यह बीमारी ठीक हो जाती है, परन्तु विलंब करने पर जानलेवा हो जाती है। किल कोरोना अभियान के अंतर्गत घर-घर सर्वे अभियान चलाया जा रहा है। नगरों में कोविड सहायता केन्द्र बनाए जा रहे हैं। सर्दी-जुकाम, खाँसी आदि के मरीज नि:शुल्क मेडिकल किट प्राप्त करें और तुरंत दवाएँ लें।

यह भी पढ़े.. PHOTO: इस घड़ी में कभी नहीं बजते 12, जानें क्या है इसके पीछे का चौंकाने वाला रहस्य

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोविड के इलाज के लिए निजी चिकित्सालयों द्वारा अधिक राशि लिए जाने के कुल 72 प्रकरणों में 15 लाख 97 हजार रूपए की राशि मरीजों के परिजनों को लौटाई गई है और 25 व्यक्तियों के‍विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई। प्रदेश में हर कोविड मरीज को इलाज के लिए आवश्यकता अनुसार सामान्य, ऑक्सीजन एवं आई.सी.यू. बिस्तर उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए हर जिले में निरंतर बिस्तर बढ़ाए गए हैं। सभी जिले यह सुनिश्चित करें, कि हर कोविड मरीज़ को उपचार के लिए अस्पतालों में बिस्तर मिलें।

रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वालों को जेल भेजें

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये कि रेमडेसिविर (Ramdesvir) की कालाबाजारी करने वाले छूटें नहीं, जेल जाएँ, यह सुनिश्चित किया जाए। प्रदेश में कार्रवाई निरंतर जारी है। आज 3 प्रकरणों में कार्रवाई की गई है। पूर्व में 20 प्रकरणों में रासुका की कार्रवाई की गई है। बीना में ऑक्सीजन बॉटलिंग प्लांट शीघ्र शुरू किया जाए। वहाँ दो प्लांट 90-90 टन के बन रहे हैं। इनसे 18 हजार सिलेंडर रोज भरे जाएंगे। हर अस्पताल में बिजली संबंधी सुरक्षा पर ध्यान दिया जाए। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि प्रत्येक अस्पताल में जनरेटर की व्यवस्था हो।

वैक्सीन की उपलब्धता रहे, स्पूतनिक मिलने की संभावना

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए कि 45 वर्ष से ऊपर वालों तथा 18 वर्ष से अधिक वालों को वैक्सीन की निरंतर उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। वैक्सीन आयात करने की संभावना पर भी विचार किया जाए। बताया गया कि रूस से जून के प्रथम माह से स्पूतनिक वैक्सीन(Sputnik Vaccine) मिल सकेगी।  वैक्सीन का एक भी डोज़ वेस्ट नहीं होना चाहिए।

पीएम मोदी से सीएम की चर्चा

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  (Prime Minister Narendra Modi) से फोन पर चर्चा कर बताया कि सरकार और जन-समुदाय के सक्रिय प्रयासों से प्रदेश में कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी दर लगातार घट रही है, जो घट कर 17.43 प्रतिशत हो गई है। रिकवरी दर भी लगातार बढ़ रही है, जो 30 अप्रैल को 82.88 प्रतिशत थी, आज 8 मई को बढ़कर 83.53 प्रतिशत हो गई है। रेमडेसिविर इंजेक्श, ऑक्सीजन की उपलब्धता और नये ऑक्सीजन उत्पादक प्लांट के संबंध में विस्तार से चर्चा की।

बता दे कि प्रदेश में कोरोना के नए प्रकरणों में निरंतर गिरावट आ रही है। पिछले 24 घंटे में 11 हजार 598 नए प्रकरण आए हैं, 4445 मरीज स्वस्थ हुए हैं। सक्रिय प्रकरणों की संख्या एक लाख 2 हजार 486 है। पिछले तीन हफ्ते से साप्ताहिक नए प्रकरणों में कमी आ रही है। संक्रमण की दृष्टि से प्रदेश देश में 15वें स्थान पर आ गया है। प्रदेश की सात दिन की औसत पॉजिटिविटी रेट 19 प्रतिशत है।प्रदेश में कुल कोरोना मरीजों में 75% होम आइसोलेशन में हैं तथा 25% अस्पतालों में है, जिनमें से 14% ऑक्सीजन बैड्स पर, 7% आई.सी.यू बैड्स पर तथा 4% मरीज सामान्य बैड्स पर हैं।