उमा भारती के बयानों पर सीएम शिवराज का अलग अंदाज- तब तक आती रहेगी शराब

वही लगातार उमा भारती के बयानों से घिरे सीएम शिवराज के इस अलग अंदाज में जवाब ने सियासी गर्मियां जरूर बढ़ाई है।

Is-Uma-Challenge-given-to-Shivraj-for-contest-election-form-bhopal-seat-

कटनी, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में उमा भारती (Uma bharti) द्वारा शराबबंदी के लिए अभियान का आवाहन करने के बाद राजनीतिक सरगर्मियां देखने को मिल रही है। पूर्व सीएम उमा भारती के शराबबंदी (liquor ban) अभियान को जहां नेताओं का समर्थन मिल रहा है वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) की परेशानियां बढ़ती नजर आ रही है। इसके साथ ही वाद विवाद की स्थिति भी पनप रही है। ऐसा ही एक वाकया शनिवार को कटनी (katni) में देखने को मिला। जहां सीएम शिवराज ने साफ कर दिया कि केवल शराबबंदी से प्रदेश नशामुक्त नहीं हो सकता। जब तक लोग शराब पीते रहेंगे। शराब आती रहेगी। सीएम शिवराज के इस कथन को उमा को जवाब माना जा रहा है।

दरअसल शनिवार को सीएम शिवराज (CM Shivraj) कटनी दौरे पर थे। जहां मंच से ही बड़ा बयान देते हुए उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा भी नशामुक्ति के लिए कई अभियान चलाए जा रहे हैं। लेकिन अभियान यह शराबबंदी (liquor ban) से प्रदेश नशामुक्त नहीं हो सकता। जब तक प्रदेश में शराब पीने वाले रहेंगे तब तक शराब आती रहेगी। सीएम शिवराज ने कहा कि समाज को ही नशा छोड़ना होगा। तभी शराबबंदी मुमकिन है।

Read More: लव जिहाद: नाबालिग युवती से कराया जबरन निकाह, पहली बार काजी के खिलाफ दर्ज होगा केस

इसके साथ ही उन्होंने फायरब्रांड नेता उमा भारती के अभियान का समर्थन करते हुए शराबबंदी के लिए अभियान चलाने की बात कही है। सीएम शिवराज ने कहा कि नशामुक्ति के लिए प्रदेश में अभियान चलाया जाएगा। वहीं लोगों को जागरूक किया जाएगा कि वह नशा छोड़ें। उन्होंने प्रदेशवासियों से सहयोग की अपील भी की है।

बता दें कि प्रदेश में शराबबंदी को लेकर उमा भारती ने बिगुल फूंक दिया है। वही उमा भारती ने कई बार प्रदेश में शराबबंदी ना होने की वजह शराब माफिया (liquor mafia) को बताया है। उमा भारती ने सोशल मीडिया पर ट्वीट करते हुए लिखा था कि थोड़े से राजस्व के दबाव में आकर प्रदेश में सरकार शराबबंदी नहीं होने देती। इसके साथ ही उन्होंने लिखा था कि सरकारी व्यवस्था ही लोगों को शराब पिलाने का इंतजाम करती है।

महिला दिवस 8 मार्च से पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती प्रदेश में शराबबंदी और नशा मुक्ति के लिए अभियान चलाने जा रही हैं। अब ऐसे वक्त में सीएम शिवराज का यह बयान निश्चित ही उमा भारती को एक जवाब है। वही लगातार उमा भारती के बयानों से घिरे सीएम शिवराज के इस अलग अंदाज में जवाब ने सियासी गर्मियां जरूर बढ़ाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here