कांग्रेस का लोकतंत्र सम्मान दिवस, ये होंगे कार्यक्रम, शिव-ज्योति को घेरने की तैयारी!

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद सिंधिया के समर्थक 22 विधायकों ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर बीजेपी का हाथ थाम लिया था। जिसके कारण कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी। वहीं 20 मार्च को बहुमत सिद्ध ना करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पद से इस्तीफा दे दिया था

कांग्रेस

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज ही के दिन मध्य प्रदेश (madhya pradesh) की सत्ता गंवा देने के बाद कमलनाथ (kamalnath) और कांग्रेस (congress) 20 मार्च को लोकतंत्र सम्मान दिवस के रूप में मना रही है। प्रदेश के हर जिले में तिरंगा यात्रा (tiranga yatra) निकाली जाएगी। हालांकि आज कहीं धरना-प्रदर्शन नहीं किया जाएगा। बल्कि कांग्रेसी कार्यकर्ता लोगों के घर-घर जाकर कमलनाथ सरकार के 15 महीने के फैसले की जानकारी जनता तक पहुंचाएंगे।

दरअसल आज से ठीक 1 साल पहले 20 मार्च को पीसीसी चीफ कमलनाथ ने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था। 2018 में जीत कर आए कांग्रेस की सरकार 15 महीने में ही गिर गई थी। जिस का आरोप आज भी कांग्रेसी ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) और उनके समर्थक मंत्रियों पर लगाते हैं। बीजेपी (bjp) पर विधायक खरीदने का आरोप लगाते हुए मध्य प्रदेश में आज कांग्रेस लोकतंत्र सम्मान दिवस मना रही है। वहीं झंडा यात्रा निकालकर संविधान की रक्षा के लिए लोगों को प्रोत्साहित करेगी।

Read More: MP Board: दो बार आयोजित होगी प्री–बोर्ड की परीक्षा, प्रश्न बैंक पर आयुक्त कियावत का बड़ा बयान

इस मामले में कांग्रेसी नेता प्रकाश जैन का कहना है कि बीजेपी ने संविधान की मूल भावना को और लोकतंत्र को नष्ट करने का काम किया है। जनता की चुनी हुई सरकार को गिरा देना बीजेपी की भावना रही है लेकिन आज प्रदेश कांग्रेस लोगों को बताएंगे कमलनाथ सरकार ने अपने शासनकाल के दौरान जन हितेषी फैसले लिए थे।

कांग्रेस नेता ने कहा कि वैसे तो 20 मार्च काले दिवस के रूप में जाना जाएगा लेकिन कॉन्ग्रेस द्वारा इस दिन को लोकतंत्र सम्मान दिवस के रूप में आयोजित किया जाएगा। जहां सुबह 11:30 बजे प्रदेश कार्यालय से कांग्रेसी नेता और कार्यकर्ता पार्टी का झंडा लेकर पैदल मार्च करेंगे। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा स्थल पर माल्यार्पण करते हुए जन जन तक अपनी बात पहुंचाएंगे। साथी15 महीने में कमलनाथ के जनित सिर्फ ऐसे जैसे कर्जमाफी, शुद्ध के लिए युद्ध अभियान, भू माफिया के खिलाफ चलाए गए अभियान, सस्ती बिजली, ओबीसी आरक्षण में बढ़ोतरी सहित अन्य फैसले की जानकारी जनता को देंगे।

गौरतलब हो कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद सिंधिया के समर्थक 22 विधायकों ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर बीजेपी का हाथ थाम लिया था। जिसके कारण कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी। वहीं 20 मार्च को बहुमत सिद्ध ना करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पद से इस्तीफा दे दिया था और 23 मार्च को शिवराज सिंह चौहान ने एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। जिसके बाद आज कांग्रेस द्वारा लोकतंत्र सम्मान दिवस मनाया जाएगा।