मेडिकल कालेज में कार्यरत नर्स की मौत, शहीद की तरह निकाली अंतिम यात्रा

कोरोनावायरस की वजह से हई नर्स की मृत्यु , 40 वर्ष की थी मेडिकल कालेज में पदस्थ नर्स, नर्स की मौत से गमगीन हुआ मेडिकल कालेज।

जबलपुर,संदीप कुमार। कोरोना महामारी (Corona epidemic) के बीच लगातार मौत का सिलसिला (Continuation of death) जारी है और प्रशासन है कि इस महामारी को रोकने में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रहा है,आज कोरोना वॉरियर्स नर्स (Corona Warriors Nurse) की कोविड से मौत (Death from covid) हो गई, मृतक नर्स मेडिकल कॉलेज (Medical college) के कोविड-19 वार्ड (covid-19 Ward) में अपनी सेवाएं दे रही थी और बीते कुछ दिनों पहले ही उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) आई, जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया था। आज सुबह 40 वर्षीय कोरोना वॉरियर्स (40-year-old Corona Warriors) की मौत हो गई।

शहीद की तरह निकाली अंतिम यात्रा

मेडिकल कालेज में पदस्थ साथी नर्सों को जैसे ही पता चला कि उनके साथ में काम करने वाली 40 वर्षीय नर्स की मौत की जैसे ही खबर लगी तो सारा मेडिकल कॉलेज गमगीन हो गया। अचानक से ही उनके साथी में नर्स की मौत (Nurse’s death) हो जाने के बाद से सभी नर्सों ने अब काम बंद कर हड़ताल कर दी है। मेडिकल कालेज में पदस्थ नर्सों ने राज्य सरकार (State government) से मांग की है कि मृतक नर्स को सम्मान पत्र के साथ 50 लाख रु का मुआवजा दिया जाए, इसके साथ ही राज्य सरकार के लिए काम कर रही नर्सों का बीमा (Nurses insurance) करवाएं।

मेडिकल कालेज से चोहानी श्मशानघाट तक निकाली गई अंतिम यात्रा

कोरोना से खत्म हुई 40 वर्षीय नर्स की जब अंतिम यात्रा निकाली तो पूरा मेडिकल स्टाफ (medical staff) एकत्रित हो गया। हालांकि कोविड की गाइडलाइन (covid’s Guideline) को देखते हुए जबलपुर प्रशासन (Jabalpur Administration) ने ज्यादा लोगों को अंतिम यात्रा में शामिल नहीं होने दिया। कोरोना वॉरियर्स की अंतिम यात्रा (Last rite to Corona Warriors) मेडकिल कालेज से चोहानी शमशान घाट (Chohani Crematorium) तक शहीद (martyr) की तरह निकाली गई।