हवाला का गढ़ बना जबलपुर, जीआरपी ने रेलवे स्टेशन पर पकड़े 35 लाख कैश, हावड़ा जाने की फिराक में था युवक

जीआरपी द्वारा पकड़े गए रु जबलपुर पौद्दार ज्वेलर्स संचालक रमेश अग्रवाल के बताए जा रहे है, जीआरपी की पूछताछ में युवक ने बताया गया कि वह इन रुपए को लेकर उसे हावड़ा जाना था

जबलपुर, संदीप कुमार| हवाला (Hawala) के रुपए का गढ़ बन चके जबलपुर (Jabalpur) में अब आरपीएफ के बाद जीआरपीएफ़ (GRPF) ने लाखों रुपए बरामद किए है| मुखबिर की सूचना पर जीआरपी ने जबलपुर मुख्य रेलवे स्टेशन (Jabalpur railway Station) के प्लेटफार्म नंबर 5 से युवक के पास रखे 35 लाख 60 हजार रु से भरा बैग बरामद किया है| युवक जबलपुर मिलोनीगंज का रहने वाला है और रुपए लेकर हावड़ा (Hawda) जा रहा था।

जबलपुर के पोद्दार ज्वेलर्स के बताए जा रहे है रुपए
जीआरपी द्वारा पकड़े गए रु जबलपुर पौद्दार ज्वेलर्स संचालक रमेश अग्रवाल के बताए जा रहे है, जानकारी के मुताबिक जीआरपी को सूचना मिली कि एक युवक संदिग्ध हालात में प्लेटफार्म में घूम रहा है और हावड़ा जाने की फिराक में है, इस सूचना पर जीआरपी ने युवक को रोका और पूछताछ की तो उसने अपना नाम वीरेंद्र चौबे बताया। युवक के बैग की तलाशी ली गई तो उसमें 35 लाख 60 हजार रुपए नगद मिले| युवक राशि सम्बंधित जानकारी नही दे पाया जिसके बाद उसे जीआरपी थाने में लाया गया।

हावड़ा ले जाना था वीरेंद्र चौबे को रुपए
जीआरपी की पूछताछ में युवक ने बताया गया कि वह इन रुपए को लेकर उसे हावड़ा जाना था उसने बताया कि ये रकम पौद्दार ज्वेलर्स संचालक रमेश अग्रवाल के द्वारा दिए गए थे और वो कमीशन में इन रुपए को ले जा रहा था। जीआरपी की पूछताछ के दौरान वीरेंद्र चौबे के पास से रुपए का किसी भी तरह से हिसाब-किताब नही मिला है।

हवाला के रु होने की आशंका…..
एसआरपी सुनील जैन ने बताया कि निश्चित रूप से जिस रु का लेनदेन हिसाब किताब न हो वह हवाला की श्रेणी में आता है और इन रु को भी हवाला से जोड़ कर देखा जा रहा है,एसआरपी की मुताबिक युवक के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही की जा रही है साथ ही यह भी पता लगाया जा रहा है वो हावड़ा में इन रु को किसे देना जा रहा था।

आयकर विभाग को दी सूचना 
जबलपुर जीआरपी पुलिस ने वीरेंद्र चौबे से जो रु बरामद किए है वह इन रु को तकिए के खोल में रखे हुए था और फिर उस खोल को बैग में।फिलहाल जीआरपी ने आयकर विभाग को रु और वीरेंद्र चौबे को सौप दिया है जिसके बाद अब आगे की कार्यवाही आयकर विभाग करेगी।