कोरोना को रोकने मध्य प्रदेश पुलिस चलाएगी नया अभियान, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने किया ऐलान

कोरोना को रोकने के लिए गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा ऐलान किया है। उनका कहना है कि तमाम समझाइश के बावजूद लोग नहीं मान रहे हैं और अभी भी मास्क पहनने में लोगों को परेशानी हो रही है।

नरोत्तम मिश्रा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। बढ़ते कोरोना संक्रमण (corona pandemic) के चलते मध्य प्रदेश की सरकार (madhya pradesh government) नया प्रयोग करने जा रही है। अभी तक पुलिस कोरोना (corona) को रोकने के लिए मास्क न पहनने वालों को जुर्माना या सजा देने जैसे काम कर रही थी, लेकिन अब एक अभिनव प्रयोग करने की घोषणा मध्य प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra)  ने की है। इसके तहत ऐसे व्यक्तियों की जो मास्क नहीं पहनते, एक संदेश के साथ फोटो सोशल मीडिया (social media) पर डाली जाएगी।

कोरोना को रोकने के लिए गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा ऐलान किया है। उनका कहना है कि तमाम समझाइश के बावजूद लोग नहीं मान रहे हैं और अभी भी मास्क पहनने में लोगों को परेशानी हो रही है। प्रधानमंत्री जी सहित मुख्यमंत्री और सभी लोग बार-बार लोगों से मास्क पहनने की अपील कर रहे हैं और इसे अभी तक कोरोना से बचने का सबसे सुरक्षित उपाय बता रहे हैं। लेकिन कई लोग इसका पालन ही नही करते।

Read More: प्रदेश में बजा 2 मिनट का मंगल ‘सायरन’ आम जनता के बीच सीएम शिवराज ने भी लिए संकल्प

ऐसे लोगों को रोकने के लिए प्रदेश का पुलिस विभाग एक नया प्रयोग करने जा रहा है। मास्क नहीं पहनने वाले लोगों को रोक कर उनका एक फोटो खींचा जाएगा और उस फोटो के नीचे लिखा जाएगा ‘कोरोना मेरा यार, समाज से नही है प्यार।’ नरोत्तम का मानना है कि इस प्रयोग के माध्यम से लोगों को इस बात का एहसास होगा कि वे मास्क न पहनकर कितना बड़ा अपराध समाज के प्रति कर रहे हैं और ऐसे लोगों को देखकर उन लोगों को भी यह समझ आएगी जो मास्क नहीं पहनते हैं। वे भी मास्क पहनते को प्रेरित होंगे।

बता दें कि मध्यप्रदेश में रविवार को टोटल लॉकडाउन के बावजूद स्थिति में सुधार नहीं है। एक बार फिर 1502 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। लॉकडाउन के बावजूद भोपाल में 356, इंदौर में 350 और जबलपुर में 102 नए केसों की पुष्टि हुई है। इसके अलावा बुरहानपुर भोपाल में एक एक मरीजों के मौत की खबर भी सामने आ रही है। जिसके बाद कोरोना गाइडलाइन को लेकर सख्त नियम बनाए गए हैं। साथ ही अब राज्य शासन द्वारा लोगों को जागरूक करने के लिए नवीन पहल किए जा रहे हैं।