MP उपचुनाव : इमरती देवी के समर्थन में उतरी मायावती, बोली- माफी मांगे आलाकमान

बसपा सुप्रीमो मायावती ने इमरती देवी का पक्ष लेते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कमलनाथ द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी पर माफी मांगने की बात कही है।

Kamal-Nath

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Former Chief Minister Kamal Nath) के शिवराज सरकार (Shivraj government) में महिला बाल विकास मंत्री और डबरा से बीजेपी प्रत्याशी इमरती देवी (BJP candidate Imarti Devi) को ‘आईटम’ कहने पर सियासत थमने का नाम नही ले रही है। भाजपा के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP supremo Mayawati) इमरती देवी के समर्थन में उतर आई है और कमलनाथ के इस रवैया को लेकर कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी (Congress Party President Sonia Gandhi) से माफी की मांग की है।

दरअसल, मायावती ने एक के बाद एक दो ट्वीट किए है और बयान का विरोध जताया है। मायावती ने अपने ट्वीट में कमलनाथ के बयान को दलित विरोधी बताया है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने इमरती देवी का पक्ष लेते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से अपने नेता द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी पर माफी मांगने की बात कही है।

मायावती ने लिखा है कि मध्यप्रदेश में ग्वालियर की डाबरा रिजर्व विधानसभा सीट पर उपचुनाव (By-election) लड़ रही दलित महिला के बारे में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व सीएम द्वारा की गई घोर महिला-विरोधी अभद्र टिप्पणी अति-शर्मनाक व अति-निन्दनीय। इसका संज्ञान लेकर कांग्रेस आलाकमान को सार्वजनिक तौर पर माफी माँगनी चाहिए।

मायावती ने आगे लिखा है कि साथ ही, कांग्रेस पार्टी को इसका सबक सिखाने व आगे महिला अपमान करने से रोकने आदि के लिए भी खासकर दलित समाज के लोगों से अपील है कि वे एम.पी. में विधानसभा की सभी 28 सीटों पर हो रहे उपचुनाव में अपना वोट एकतरफा तौर पर केवल बी.एस.पी. उम्मीदवारों को ही दें तो यह बेहतर होगा।

क्या है पूरा मामला

दरअसल, रविवार को कमलनाथ डबरा से कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश राजे (Congress candidate Suresh Raje) के समर्थन में सभा को संबोधित करने पहुंचे थे, जहां उन्होंने इमरती देवी पर तंज कसते हुए कहा कि आप तो उसे मुझसे ज्यादा पहचानते है, आपको मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था, ये क्या आईटम है। इतना कहते ही कमलनाथ मुस्कुराए तो जनता ने  भी तालियां के साथ ठहाके लगाना शुरु कर दिए, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद बवाल खड़ा हो गया है। भाजपा के साथ BSP और दलित समाज भी विरोध में उतर आया है।भाजपा ने कमलनाथ ने सार्वजनिक तौर पर माफी मांगने की मांग की है।

बवाल के बाद कमलनाथ की सफाई

बयान पर बवाल बचने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) और कांग्रेस बैकफूट पर आ गई है और सफाई दे रही है। कमलनाथ ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि  हां मैंने आइटम (Item) कहा है क्योंकि यह कोई असम्मानजनक शब्द नहीं है। मैं भी आइटम हूं आप भी आइटम है और इस अर्थ में हम सभी आइटम है। उन्होंने कहा कि लोकसभा और विधानसभा में कार्यसूची को आइटम नंबर लिखा जाता है, पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में भी आइटम नंबर लिखा जाता है। क्या यह असम्मानजनक है?शिवराज जी अभी चुनाव में 15 दिन बचे और आप इतने हताश हो गए हैं कि आप शब्दों के अर्थ बदल कर चुनाव जीतना चाहते हैं।

बयान पर इमरती का पलटवार

कमलनाथ के बयान से आहत महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने पलटवार किया है। उनका कहना है कि कमलनाथ बंगाली है,  महिलाओं का सम्मान करना वह क्या जाने। नवदुर्गा में जिस तरह से महिलाओं का सम्मान किया जाता है उसे कमलनाथ वाकिफ नहीं है । उल्टे जब से मुख्यमंत्री पद से वह हटे हैं तब से वह पागल हो गए हैं और वह कुछ भी अनाप-शनाप बक रहे हैं उनके इस बयान का जवाब तो जनता ही उन्हें देगी।अब इसमें हम क्या कह सकते हैं, कुछ भी नहीं कह सकते।

भाजपा का मौन व्रत आज

कमलनाथ के बयान के बाद बीजेपी ने मौका लपकते हुए कांग्रेस को घेरना शुरु कर दिया है। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और BJP प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने माफी की मांग की है। वही  मध्य प्रदेश बीजेपी आज सोमवार को दो घंटे का मौन वर्त रखेगी। खुद सीएम शिवराज भोपाल में पुरानी विधानसभा के पास महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना देंगे। बीजेपी कमलनाथ के विवादित बयान की शिकायत चुनाव आयोग से भी कर चुकी है, मांग की गई है कि कमलनाथ को चुनाव प्रचार से रोका जाए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here