MP: पहली बार विस में होगा यह काम, जीते MLA पूछेंगे सरकार से सवाल, बजट अनुदान पर होगी चर्चा

इसके अलावा कृषि, पुलिस, जेल, नगरीय विकास और आवास सहित खनिज विभाग की अनुदान की मांग पर भी चर्चा की जाएगी।

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में विधानसभा बजट सत्र (Assembly Budget Session) का 14वा दिन है। प्रदेश में पहली बार होगा जब प्रश्नकाल (Question Hour) के दौरान जीत कर आए हुए विधायक (MLA) सरकार से सवाल पूछेंगे। इसके लिए विधायकों (MLAs) के नाम का चयन किया गया है। साथ ही विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम (girish gautam) विधायकों को पूरक सवाल पूछने का भी मौका देंगे।

दरअसल विधायकों को प्रश्नकाल में सवाल पूछने का मौका दिया जाएगा। इसके साथ ही साथ सदन में कई विभाग के बजट अनुदान की मांग पर भी चर्चा की जाएगी। प्रश्नोत्तरी में पहली बार चुनकर आए विधायक सदन में सरकार से 25 सवाल पूछेंगे। इसके लिए 8 मार्च को सवालों की लॉटरी भी निकाली जा चुकी है। साथ ही सवाल पूछने वाले विधायकों का चयन भी किया जा चुका है। जिसका जवाब मंत्रियों को देना होगा। इसके अलावा कृषि, पुलिस, जेल, नगरीय विकास और आवास सहित खनिज विभाग की अनुदान (Grant) की मांग पर भी चर्चा की जाएगी।

Read More: कल्याणी कर्मशक्ति कार्यक्रम में पंहुची महिला आयोग कि अध्यक्ष शोभा ओझआ, कहा बच्चियों को करें शिक्षित

आज विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान राजधानी के बरखेड़ी की अवैध कॉलोनी का मामला उठाया जाएगा। इसके अलावा अस्पतालों में आयुष्मान योजना के तहत इलाज के लिए टेस्ट की सुविधा ना होने का मामला भी सदन में उठाया जाएगा। साथ ही राघोगढ़ की सड़क को लेकर जयवर्धन सिंह सरकार से सवाल पूछेंगे।

कोरोना के प्रति संक्रमण और विधायकों के संक्रमित होने के बाद विधानसभा के बजट सत्र में किसी भी बाहरी व्यक्ति को प्रवेश नहीं दिया जाएगा प्रवेश से पहले विधायकों की जांच की जाएगी। वहीं सदन में सिर्फ जरूर स्टाफ की मौजूदगी रहेगी। इसके अलावा सभी दीर्घा में प्रवेश को प्रतिबंधित किया गया है।

प्रदेश के तीन विधायक विजय लक्ष्मी साधो निलय डागा और देवेंद्र वर्मा कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। जिसके बाद विधानसभा सचिवालय में अब कोरोना संक्रमण के फैलाव को लेकर सावधानियां बरती जा रही है। विधानसभा में प्रवेश से पहले विधायकों को जांच की व्यवस्था की गई है। इस मामले में विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह ने बताया कि परिसर में भीड़ लगाने की अनुमति नहीं रहेगी और साथ ही कैंटीन आदि में जमा ना हो इसके लिए दिशा निर्देश दिए जाएंगे।

बता दें कि 15 महीने के सियासी उठापटक के कारण विधानसभा पूरी तरह से संचालित नहीं हो पाई थी। इसके अलावा कोरोना संक्रमण को देखते हुए भी विधानसभा में प्रश्नकाल को रोक दिया गया था। इसके बाद विधानसभा बजट सत्र शुरू किया गया जो 26 मार्च तक चलना है।