MP: बिजली कंपनी की नई व्यवस्था, उपभोक्ताओं को इस तरह से मिलेंगे बिल

प्रबंध संचालक ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि मीटर वाचन में किसी भी स्तर की गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

electricity

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में बिजली कंपनी ने उपभोक्ताओं के बिजली बिल को लेकर बड़ा फैसला लिया है। अब विद्युत वितरण कंपनी हाई वैल्यू (high-value) कंजूमर को व्हाट्सएप (whatsapp), ईमेल (e-mail) और एसएमएस के माध्यम से बिजली बिल (electricity bill) भेजेगी। इसके लिए मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा उपभोक्ताओं के मोबाइल नंबर, व्हाट्सएप नंबर और ईमेल आईडी के लिए अभियान चलाया जाएगा।

दरअसल मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी (Central Region Power Distribution Company) के प्रबंध संचालक विशेष गढ़पाले (Vishesh Garhpale) ने कंपनी मुख्यालय में बैठक आयोजित की थी। जिसमें कहा गया कि 10 किलोवाट तक के उपभोक्ताओं को अब ईमेल व्हाट्सएप पर एसएमएस (SMS) के जरिए ही बिजली बिल उपलब्ध कराए जाएंगे। कंपनी बिजली बिल की हार्डकॉपी उपभोक्ताओं को इलेक्ट्रॉनिक तरीके से भेजेगी। इसके लिए बिजली उपभोक्ताओं को कंपनी के पोर्टल portal.mpcz.in पर स्टेशन कराना होगा। इसके अलावा व्हाट्सएप चैट बॉक्स (Whatsapp chat box) 755 255 1222 के माध्यम से अपना नंबर बिजली कंपनी को दर्ज करा सकते।

Read More: Betul: परीक्षा देने आगरा से आई थी महिला, बेटी को दिया जन्म, खुशी में बेटी का नाम ही रख दिया बैतूल

इसके अलावा प्रबंध संचालक ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि मीटर वाचन में किसी भी स्तर की गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। प्रबंध संचालक ने कहा कि मीटर रीडिंग शुद्धता से की जाए। इसके अलावा बड़े बकायेदारों के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई की जाए। विद्युत बोर्ड द्वारा पहले ही नियम बनाए जा चुके हैं कि यदि बकायदा बिजली बिल का भुगतान समय पर नहीं करते हैं तो उनके बैंक खाते को सीज भी किया जाएगा।

इसके साथ ही मध्य क्षेत्र विद्युत बोर्ड के प्रबंध संचालक ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि खरीफ सीजन में कृषि क्षेत्र को विद्युत आपूर्ति करने के लिए कंपनी को तैयार रहने की जरूरत है। प्रबंध संचालक ने निर्देश देते हुए कहा की वितरण ट्रांसफर रिपेयर करने के लिए एजेंसियों को इस संबंध में शीघ्र कार्रवाई की जाए। इसके अलावा कृषि क्षेत्र में खरीफ सीजन को ध्यान में रखते हुए ट्रांसफार्मर की मांग के अनुसार क्षमता वृद्धि की जाए।