MPPEB : शिक्षकों ने राज्यपाल से की इच्छामृत्यु की मांग, ये है कारण

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश(Madhyapradesh) के शिक्षक लगातार राज्य शासन तक अपनी बात पहुंचाने के लिए उग्र है किंतु लगातार उनकी बात को अनसुना किया जा रहा है जिसके बाद अब शिक्षक पात्रता परीक्षा(Teacher eligibility test) पास करने वाले उम्मीदवारों ने राज्यपाल(Governer) को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की मांग की है। मध्य प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा का रिजल्ट(Result) जारी किए1 साल का वक्त पूरा हो चुका है किंतु अब तक अभ्यर्थियों के भर्ती नहीं की गई है। जिससे शिक्षक परेशान है। अब उन्होंने इच्छामृत्यु के लिए राज्यपाल के नाम कलेक्टर्स को ज्ञापन सौंपा है।

दरअसल मध्य प्रदेश शिक्षा शिक्षक पात्रता परीक्षा का रिजल्ट जारी हुए 1 साल का वक्त पूरा हो चुका है किंतु किसी भी अभ्यर्थी की अब तक भर्ती नहीं हो पाई है लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती के लिए 15000 पदों पर 1 जुलाई को सत्यापन प्रक्रिया शुरू की गई थी लेकिन इस प्रक्रिया को 3 दिन के बाद ही रोक दिया गया था। इसके बाद अब इसका विरोध जताने के लिए प्रदेश भर के उम्मीदवार 28 अगस्त यानी शुक्रवार को रिजल्ट की कॉपी जलाकर बरसी भी मनाएंगे।  प्रदेशभर के उम्मीदवार जिला कलेक्टर कार्यालय जाकर भर्ती प्रक्रिया शुरू करने का अभियान चलाएंगे और कलेक्टर को राज्यपाल के नाम पर ज्ञापन सौंपेंगे। वही शिक्षक भर्ती में चयनित एक उम्मीदवार ने बताया कि 2018 में भर्ती का नोटिफिकेशन जारी किया गया था किंतु समय पर परीक्षा नहीं होने की वजह से छात्रों ने धरना प्रदर्शन किया था जिसके बाद फरवरी-मार्च 2019 में पात्रता परीक्षा करवाई गई थी। अब चयनित उम्मीदवारों की नियुक्ति में देरी की जा रही है। जिससे शिक्षकों में भारी रोष व्याप्त है।

बता दें कि उच्च माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा का रिजल्ट 28 अगस्त 2019 को आया था। जबकि माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा का रिजल्ट 26 अक्टूबर 2019 को जारी किया गया था। उसके बाद से अब तक चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति नहीं दी गई है। जिसके लिए अब शिक्षकगण सोशल मीडिया पर #GiveMPTETjoiningOrAllowToDie के साथ अपनी मांग रख रहे हैं।