अब बाला बच्चन ने लगाया शिवराज सरकार पर ये आरोप, BJP हुई आक्रामक

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट

मध्यप्रदेश(Madhyapradesh) के राजनीतिक गलियारे का मिजाज भी मौसम की तरह है। यहां कब किस तरह की चीजे घटित हो जाए, कहना मुश्किल है। इसी बीच प्रदेश में शांत हुआ बंगला पॉलिटिक्स(Bungalow Politics) का मुद्दा एक बार फिर जोर पकड़ने लगा है। शिवराज सरकार(shivraj government) ने पूर्व मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ के बंगला खाली करवाने के निर्देश के बाद एक बार फिर कांग्रेस उन पर आक्रमक हो गई है। एक तरफ जहां पूर्व मंत्री विजय लक्ष्मी साधौ(Former Minister Vijay Laxmi Sadhau) ने शिवराज सरकार पर जमकर निशाना साधा है और उन पर एससी(SC)-एसटी(ST) नेताओं को टारगेट(Target) करने का आरोप लगाया है वहीं दूसरी तरफ पूर्व गृहमंत्री बाला बच्चन(Former Home Minister Bala Bachchan) ने भी शिवराज सरकार पर जमकर तंज कसा है। बाला बच्चन ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्होंने कई बार पत्र लिखकर राजधानी में रहने के लिए आवास उपलब्ध कराए जाने की मांग की लेकिन शिवराज सरकार कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ षड्यंत्र रच रही है।

दरअसल बंगला पॉलिटिक्स को लेकर विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है। पूर्व गृहमंत्री बाला बच्चन भी अभी दौड़ में शामिल हो गए हैं। उन्होंने प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान(Shivraj Singh Chauhan) पर निशाना साधते हुए कहा है कि मैं 5 बार का विधायक(MLAs) हूं लेकिन मुझसे बंगला खाली करवा लिया गया इस पर भी मैंने जब शिवराज सरकार को पत्र लिखकर प्रदेश की राजधानी में रहने के लिए आवास उपलब्ध कराए जाने की मांग की तो इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया। बाला बच्चन ने यह भी कहा कि कमलनाथ(Kamlnath) की सरकार थी तब हमारी सरकार ने विपक्ष के साथ ऐसी किसी भी तरह की हरकतें नहीं की थी।भूपेंद्र सिंह, विश्वास सारंग, नरोत्तम मिश्रा कई ऐसे उस समय पूर्व मंत्री थे जो सरकारी मकानों का लाभ लेते रहे थे।

बीजेपी SC-ST नेताओं को कर रही टारगेट- साधौ 

इससे पहले प्रशासन द्वारा पूर्व मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ का बंगला खाली कराने पहुंचे प्रशासन की कार्रवाई के बाद उन्होंने शिवराज सरकार पर इल्जाम लगाते हुए कहा है कि शिवराज सरकार चुन-चुन कर sc-st नेताओं को ही टारगेट करने का काम कर रही है। कांग्रेस के खिलाफ जौनपुर के षडयंत्र रचा जा रहा है और उसे परेशान किया जा रहा है।

बता दें कि प्रदेश में बंगला पॉलिटिक्स का मुद्दा तरुण भनोट(Tarun Bhanot) का बंगला खाली करवाने के मुद्दे से शुरू हुआ था। जिसके बाद प्रदेश में सियासत काफी गरमा गई थी। पूर्व मंत्री तरुण भनोट का बंगला बीडी शर्मा(VD Sharama) को अलॉट(Allot) किया गया था जिसे संपदा विभाग ने कार्रवाई करते हुए सील कर दिया था। वहीं इसके अलावा सज्जन सिंह वर्मा और बाला बच्चन को भी सरकारी आवास छोड़ना पड़ा था। जिसके बाद विजयलक्ष्मी साधौ के बंगले पर हो रही इस कार्रवाई के बाद एक बार फिर से मामला गरमा गया है। वहीं कांग्रेस इस विषय पर लगातार आक्रमक बनी हुई है।