अब सर्टिफिकेशन पर मचा बवाल, सीएम के दावे पर BJP विधायक ने ली आपत्ति

इंदौर, आकाश धोलपुरे। ISO 9001 दुनिया का सबसे मान्यता प्राप्त गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली (क्यूएमएस) मानक है। इधर, खबर ये सामने आई है कि दिल्ली के तीमारपुर विधायक दिलीप पांडे देश के पहले ऐसे विधायक बने है जिनके कार्यालय को ये सर्टिफिकेट मिला है। इधर, इस मामले पर उस वक्त राजनीतिक बवाल खड़ा हो गया जब मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री और इंदौर विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 5 के विधायक महेंद्र हार्डिया ने ट्विटर पर आम आदमी पार्टी के दावों पर सवाल खड़े कर दिए।

दरअसल, खबरे जब सामने आई कि दिल्ली में अब एक ऐसा विधायक कार्यालय भी है, जिसे ISO प्रमाणपत्र मिल गया है। 70 विधानसभा क्षेत्रों में तीमारपुर विधायक कार्यालय को यह प्रमाणपत्र मिला है। वही दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने इसे आप की उपलब्धि बताते हुए माना कि देश का यह पहला विधायक कार्यालय होगा, जिसे आईएसओ मानकीकरण पर खरा पाया गया है। शुक्रवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तीमारपुर के विधायक दिलीप पांडे को यह प्रमाणपत्र मुखर्जी नगर स्थित जल बोर्ड कार्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में सौंपेंगे। आम आदमी पार्टी के तिमारपुर के विधायक दिलीप पांडे के ‘तिमारपुर विधायक कार्यालय’ को ISO 9001-2015 प्रमाणपत्र मिला है।

अब सर्टिफिकेशन पर मचा बवाल, सीएम के दावे पर BJP विधायक ने ली आपत्ति

Read More: राज्यसभा स्पीकर ने MP को किया पूरे सत्र के लिए निलंबित, मंत्री के हाथ से छीनकर फाड़ा था पेपर

इधर, इंदौर से बीजेपी विधायक महेंद्र हार्डिया ने आप विधायक की उपलब्धि को लेकर कहा कि उन्हें यह प्रमाण पत्र वर्ष 2017 में ही मिल चुका है ऐसे में आप विधायक दिलीप पांडे कैसे देश के पहले आईएसओ सर्टिफाइड विधायक हो गए है। बीजेपी विधायक महेंद्र हार्डिया एक जनप्रिय नेता है और इंदौर में उनकी अपनी विधानसभा पर काफी मजबूत पकड़ है। ऐसे में बीजेपी विधायक ने मय प्रमाण ट्वीट कर बताया कि “इस सम्बन्ध में, मैं आपके संज्ञान में लाना चाहता हु की मेरे कार्यालय जिसका नाम सेवालय हे को 9 नवम्बर 2017 को ही आईएसओ- 9001-2015 प्रमाण-पत्र मिल चूका हे.
मेरा कार्यालय क्षेत्र में अपनी सेवाकार्य के लिए जाना जाता हे. धन्यवाद- महेंद्र हार्डिया – भाजपा MLA, इंदौर

फिलहाल, अब ये नई बहस इंदौर से लेकर दिल्ली तक कि राजनीति पर कितना गहरा असर करती है ये बड़ा सवाल है क्योंकि बात योग्यता और श्रेणीयन की है, लिहाजा अब इस पूरे मामले पर राजनीति गरमाना स्वाभाविक है।

अब सर्टिफिकेशन पर मचा बवाल, सीएम के दावे पर BJP विधायक ने ली आपत्ति