MP में उपचुनाव के लिए प्रत्याशी तलाश रही सपा, WhatsApp पर बुलवाये आवेदन

मध्यप्रदेश उपचुनाव में हो सकती है समाजवादी पार्टी की एंट्री, ट्वीट कर चुनाव लड़ने के इच्छुक नेताओं से मांगे आवेदन

akhilesh-yadav

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (Madhyapradesh) की 28 सीटों पर उपचुनाव (By-election) के लिए भाजपा (BJP) और कांग्रेस (Congress) पूरे दमखम से मैदान में उतर गई हैं| वहीं बसपा (BSP) ने भी 27 सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा कर भाजपा और कांग्रेस का समीकरण बिगाड़ दिया है| इनमे से कई सीटें ऐसी हैं जहां बसपा अपना प्रभाव रखती है| इस बीच एक और पार्टी ने उपचुनाव में ताल ठोक दी है| हालांकि इस पार्टी को अभी प्रत्याशियों की दरकार है|

मध्य प्रदेश में अपनी राजनीतिक जमीन मजबूत करना चाह रही समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) भी उपचुनाव में प्रत्याशी उतारना चाहती है| इसलिए सपा चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार ढून्ढ रही है| पार्टी को प्रत्याशियों की तलाश है और इसके लिए इच्छुक नेता आवेदन कर सकते हैं। सपा ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर इसकी जानकारी दी है। एक तरफ जहां नेता चुनाव लड़ने टिकट के लिए जमकर जोर आजमाइश करते हैं, वहीं सपा के सोशल मीडिया के माध्यम से उम्मीदवारों की खोज सियासत में चर्चा का विषय बन गई है|

सोशल मीडिया पर चुनाव लड़ने का ऑफर
समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर चुनाव लड़ने की इच्छा रखने वालों को ऑफर दिया है| ट्वीट में बताया गया है कि मध्य प्रदेश विधानसभा उपचुनाव के लिए जो भी समाजवादी पार्टी नेता, कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी समाजवादी पार्टी टिकट के लिए इच्छुक हैं वह मोबाइल नंबर +91 75572 95555 पर अपना आवेदन व्हाट्सएप कर सकते हैं।

विधानसभा चुनाव में हुई थी एक सीट पर जीत
बता दें कि 2018 के विधानसभा चुनाव में भी सपा ने अपने उम्मीदवार उतारे थे और एक विधायक जीतकर विधानसभा भी पहुंचा| लेकिन राज्यसभा चुनाव के बाद में समाजवादी पार्टी के इकलौते विधायक राजेश शुक्ला (Rajesh Shukla) को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया था|

नाराज नेताओं के लिए मौका बना सपा का ऑफर
सपा का यह ऑफर तब सामने आया है, जब भाजपा, कांग्रेस और बसपा अपने प्रत्याशी घोषित कर चुकी है| कई नेताओं को निराशा हाथ लगी है, जो टिकट के दावेदार थे| ऐसे में नाराज नेताओं के लिए सपा का ऑफर काम आ सकता है| संपा का यह दांव उपचुनाव में चौथी पार्टी की एंट्री के संकेत दे रहा है| भाजपा और कांग्रेस के नाराज नेता सपा का दामन थाम सकते हैं|