फिर पास पास आये सिंधिया, कमलनाथ और दिग्विजय, ये है पूरा मामला

बताया  जाता है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तब चार इमली क्षेत्र में बँगला चाहा था लेकिन तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ के रूचि नहीं लेने से सिंधिया को बँगला नहीं मिला था। 

congress-will-give-tips-to-candidates-for-counting-of-votes-madhya-pradesh-lok-sabha-elections

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को शिवराज सरकार ने सरकारी बँगला अलॉट कर दिया है। सरकार ने श्यामला हिल्स का बँगला नंबर B – 5 ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को अलॉट कर दिया है।  खास बात ये है कि यहीं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Ex CM Kamalnath), दिग्विजय सिंह (Ex CM Digvijay Singh) और उमा भारती(Ex CM Uma Bharti) के भी बंगले हैं। बंगले का रिनोवेशन तेज हो गया है, ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) जल्दी ही इसमें शिफ्ट होंगे।

आख़िरकार ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia)  की भोपाल में बंगले की चाहत पूरी हो गई। राज्य शासन ने उन्हें भोपाल की खूबसूरत श्यामला हिल्स के बड़े बंगले में से एक B – 5 अलॉट कर दिया है। अलॉटमेंट के बाद  बंगले में रिनोवेशन तेज हो गया है। पहले ये बँगला पूर्व मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल के पास था। खास बात ये है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के एक तरफ पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का बँगला है और दूसरी तरफ पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती का बँगला है जबकि पास में ही पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का बँगला है। इसतरह ज्योतिरादित्य सिंधिया, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह के पड़ोसी बन गए हैं।

कांग्रेस सरकार ने नहीं दिया था बँगला 

2018 में कांग्रेस की सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को कमलनाथ सरकार ने बँगला आवंटित नहीं किया था। बताया  जाता है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तब चार  इमली क्षेत्र में बँगला चाहा था लेकिन तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ के रूचि नहीं लेने से सिंधिया को बँगला नहीं मिला था।  बता दें कि श्यामला हिल्स पर शिवराज सरकार ने ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को जो  बांग्ला अलॉट किया है वो  भोपाल के सबसे बड़े बंगलों में से एक है। बड़ी बात ये है कि शिमला हिल्स के ये बंगले पूर्व मुख्यमंत्री और कैबिनेट स्तर के मंत्रियों को अलॉट किये जाते हैं।