University Exam: छात्रों के समर्थन में आये नकुलनाथ, सरकार से की ये मांग

भोपाल।

मध्यप्रदेश(madhyapradesh) में लगातार बढ़ रहे कोरोना(corona) संक्रमण के बीच शिवराज सरकार(shivraj government) ने ये तय किया है कि मध्यप्रदेश में कॉलेज(college) में छात्रों को जनरल प्रमोशन(general promotion) नहीं मिलेगा। वहीँ परीक्षाओं को लेकर उच्च शिक्षा विभाग ने निर्णय लिया था कि 29 जून से 31 जुलाई के बीच यूनिवर्सिटी(university) की परीक्षा ली जाएगी। जिसके बाद छात्रों ने सोशल मीडिया(socialmedia) के जरिये जनरल प्रमोशन की मांग की थी जिसके बाद अब नकुलनाथ(nakulnath) भी प्रदेश के विद्यार्थियों के समर्थन में आ गए हैं उन्होंने छात्रों की मांग को जायज़ बताते हुए कहा है कि शासन को बच्चों को जनरल प्रमोशन दिया जाना चाहिए।

दरअसल बुधवार को ट्वीट(tweet) करते हुए सांसद नकुलनाथ ने कहा कि सीएम शिवराज सिंह चौहान(CM Shivraj singh chouhan) कोरोना संक्रमण काल मे मध्यप्रदेश के छात्रों द्वारा लगातार जनरल प्रमोशन की मांग की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस कोरोना काल में छात्रों की यह मांग जायज है। इसलिए मैं भी आपसे इस पत्र के माध्यम से निवेदन करता हूँ कि कॉलेजों में जनरल प्रमोशन दिया जाएं। उन्होंने कहा कि इस गंभीर परिस्थिति में छात्रों की मांग सही है। बता दें कि कोरोना महामारी(corona pandemic) और लॉकडाउन(lockdown) की वजह से यूनिवर्सिटी और कालेजो की परीक्षाएं नहीं आयोजित हो पाई हैं। जिसके कारण प्रदेश के करीब 20 लाख छात्रों के भविष्य अधर में लटके हुए हैं।दूसरी तरफ कोरोना के लगातार बढ़ रहे मामले भी सरकार के लिए चिंता का विषय बने हुए हैं।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश शासन के उच्च शिक्षा विभाग एवं माध्यमिक शिक्षा मंडल, मध्य प्रदेश ने UG-PG EXAM और 12th हायर सेकेंडरी के बचे हुए पेपर कराने का फैसला लिया है। तारीखें घोषित कर दी गई है। कोरोना संकट के बीच सरकार के इस फैसले का विरोध तेज हो गया था| सोशल मीडिया पर #GeneralPromotionToMPStudents ट्रेंड कराया जा रहा था| उनका कहना है कि यदि परीक्षा कक्ष में बैठने के कारण कोरोनावायरस का इंफेक्शन हो गया तो कौन जिम्मेदार होगा। जिसके बाद सीएम शिवराज ने ट्वीट करते हुए कहा था कि मध्यप्रदेश के भांजे-भांजियों की सबसे ज़्यादा चिंता मुझे है! जिसने अपना जीवन ही उनके लिए समर्पित कर दिया हो, वह यह कभी नहीं चाहेगा कि उसके बच्चों के भविष्य के साथ कोई खिलवाड़ करे। परिस्थितियाँ विपरीत हैं, लेकिन हमने भी चुनौती को अवसर में बदलने का निर्णय लिया है|