सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद रॉकेट बने अडानी ग्रुप के शेयर, आया 18% तक का उछाल, 15 लाख करोड़ के पार पहुंचा मार्केट कैप

Manisha Kumari Pandey
Published on -
adani group shares news

Adani Group Shares News: बुधवार को अडानी ग्रुप और हिंडनबर्ग मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई या एसआईटी की जांच कराने की मांग को ठुकरा दिया है। SC के फैसले के बाद समूह के शेयरों में भारी उछाल देखा गया है। अडानी एनर्जी सोल्यूशन्स के शेयर में 18%  की बढ़ोत्तरी देखी गई है। समूह के स्टॉक्स 3-18% के बीच में हैं। मार्केट कैपिटलाइजेशन 15 लाख करोड़ तक पहुँच चुका है।

अडानी ग्रुप के सभी शेयर हरे निशाने पर

गौतम अडानी के सभी कंपनियों के शेयर हरे निशाने पर कारोबार कर रहे हैं। अडानी एंटरप्राइज के शेयरों में 9% का उछाल आया है। अडानी पावर के शेयरों में 5% और अडानी पॉर्ट्स में 6% की बढ़त हुई है। अडानी गैस कंपनी के शेयरों में 10%, ग्रीन एनर्जी के शेयरों में 9% और अडानी विलमर के शेयरों में 9% बढ़ गए हैं। अंबुजा सीमेंट के शेयर 52 सप्ताह में सबसे उच्च स्तर पर पहुँच चुके हैं, शेयरों में 3% का उछाल आया है। एनडीटीवी के शेयरों में 11 % और ACC सीमेंट कर शेयरों में 3% की बढ़त हुई है।

3 जनवरी को कैसा है स्टॉक मार्केट का हाल?

स्टॉक मार्केट में इन दिनों गिरावट देखी जा रही है। 3 जनवरी को निफ्टी और सेंसेक्स में भी गिरावट हुई है। हिंदुस्तान यूनीलीवर, बजाज फाइनेंसरी, ऐक्सिस बैंक, टाटा मोटर्स आईसीआईसीआई बैंक, इंडसइंड बैंक और ओएनजीसी के शेयर हरे निशाने पर आरोबर कर रहे हैं। वहीं एचसीएल टेक्नोलॉजी, कोटक महिंद्रा, टीसीएस, टाटा स्टील, विप्रो एनटीपीसी, एशियन पेंट्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज़ और कोल इंडिया फिलहाल लाल निशाने पर कारोबार कर रहे हैं।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News