आज से बदल गए जीएसटी, एलआईसी और केवाईसी समेत पैसों से जुड़े ये 5 नियम, आमजन पर पड़ेगा असर, पढ़ें पूरी खबर

New Rules

Changes In Rules: बुधवार यानि आज नवंबर महीने की शुरुआत हो चुकी है। साथ ही कई नियमों में बदलाव होने जा रहा है। जिसका असर आमजन के जेब पर भी पड़ेगा। पेट्रोल और डीजल के कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। वहीं कमर्शियल एलपीजी सिलेंडरों में 103 रुपये का इजाफा हुआ है। इसके अलावा केवाईसी, एलआईसी और जीएसटी ने संबंधित नियमों में संशोधन हुआ है। वहीं कुछ नए रूल्स को भी लागू किया गया है।

बैंक की छुट्टी

नवंबर माह में करवा चौथ, दिवाली, धनतेरस छठ पूजा समेत कई त्योहार पड़ रहे हैं। अगले महीने 15 दिन बैंक बंद रहेंगे। आरबीआई ने लिस्ट भी जारी कर दी है। इसलिए छुट्टियों की लिस्ट देखकर बैंक से जुड़े कार्यों को निपटा लें।

केवाईसी से जुड़ा नियम

इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने बीमा धारकों के लिए केवाईसी को अनिवार्य कर दिया है। ऐसा न करने पर बीमा रद्द हो सकता है। नए नियम 1 नवंबर से लागू हो चुके हैं।

जीएसटी से जुड़े नियम

1 नवंबर से जीएसटी से जुड़े नियमों में भी बड़ा बदलाव किया गया है। अब 100 करोड़ से ज्यादा का कारोबार करने वाले कारोबारियों और कंपनियों को जीएसटी ई-चालान का भुगतान करना होगा।

एलआईसी के नियम

भारतीय जीवन बीमा निगम ने बंद पॉलिसी को ओपन करवाने के लिए 31 अक्टूबर तक का अवसर का मौका दिया था। अब तक इसे लेकर कोई घोषणा नहीं की गई है। 1 नवंबर से एलआईसी पॉलिसी को रि-ओपन करवाने में परेशानी हो सकती है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के नियम

20 अक्टूबर को बीएसई ने इक्विटी के डेरिवेटिव सेगमेंट में लेनदेन पर शुल्क बढ़ाने की घोषणा की थी। शेयर बाजार का यह नियम आज से लागू हो सकता है। निवेशकों को एक्स्ट्रा चार्ज भरना पड़ सकता है।

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News