केवाईसी फ्रॉड को लेकर आरबीआई ने जारी किया नया निर्देश, बचाव के लिए क्या करें क्या नहीं? यहाँ जानें

आरबीआई ने केवाईसी फ्रॉड से बचने के लिए गाइडलाइन जारी की है। आइए जानें यूजर्स खुद को कैसे स्कैम से बचा सकते हैं?

kyc fraud guildelines

KYC Fraud Guidelines By RBI: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने केवाईसी फ्रॉड को लेकर नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। यह गाइडलाइन बैंकिंग और फाइनेंसियल सर्विस सेक्टर के लिए जारी की गई है। बैंकों और वित्तीय संस्थानों को आरबीआई द्वारा जारी केवाईसी के कुछ नियमों का पालन करना होगा। ताकि ग्राहकों को धोखाधड़ी के मामलों से बचाया जा सके।

स्कैमर्स ऐसे बना रहें उपभोक्ताओं को ठगी का शिकार

देशभर में केवाईसी स्कैम से जुड़े लाखों मामले सामने सामने आए हैं, जहां लोगों को बड़ा नुकसान झेलना पड़ा। इस संबंद में रिलायंस जियो, एयरटेल समेत अन्य मोबाइल ऑपरेटर्स भी उपभोक्ताओं को चेतवानी दे चुके हैं। स्कैमर्स यूजर्स को कॉल या एसएमएस के जरिए पर्सनल डेटा बताने और अनधिकृत ऐप्स इंस्टॉल करने के प्रेरित करते हैं। पर्सनल डेटा शेयर करते ही यूजर्स को आपके अकाउंट का एक्सेस स्कैमर्स को मिल जाता है। जिसके बाद वे ब्लैकमेलिंग, धमकी और अन्य धोखाधड़ी गतिविधियों को अंजाम देते हैं। ऐसे ही मामलों से बचने के लिए आरबीआई ने गाइडलाइन जारी की है।

बचाव के लिए क्या करें?

  • केवाईसी अपडेट या केवाईसी से जुड़ी कोई भी जानकारी के लिए उपभोक्ता अपने बैंक और वित्तीय संस्थानों के साथ संपर्क करें। कॉल/एसएमएस  पर बताए गए बातों पर यकीन न करें। अपने बैंक के ब्रांच में जाकर केवाईसी अपडेट से जुड़ी जरूर लें।
  • सभी बैंकों के पास उनका खुद का कस्टमर सपोर्ट वेबसाइट या प्लेटफॉर्म होता है। आधिकारिक स्त्रोत्र पर जाएं और प्रामाणिकता को सुनिश्चित करें।
  • किसी की खतरे ही संभावना होने या स्कैम का शिकार होने की शिकायत बैंक के तुरंत करें।

भूलकर भी न करें ये गलती

  • कभी भी आपके अकाउंट की जानकारी जैसे कि पिन, ओटीपी, पासवर्ड, डेबिट-क्रेडिट कार्ड इनफार्मेशन किसी को भी शेयर न करें।
  • अपने केवाईसी दस्तावेज या इनकी कॉपी को अनजान या असत्यापित व्यक्ति या संस्थान को न दें।
  • ईमेल या एसएमएस पर किसी भी असत्यापित लिंक पर क्लिक न करें।
  • किसी असत्यापित ऐप या वेबसाइट पर अपने बैंक अकाउंट और केवाईसी से जुड़े डेटा या जानकारी को साझा करने से बचें।

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News