Post Office Scheme: 1 अप्रैल से शुरू होगी महिलाओं के लिए ये खास स्कीम, निवेश पर मिलेगा शानदार ब्याज

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Post Office Scheme: बजट 2023-24 की पेशकश के दौरान केन्द्री वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने महिलाओं के लिए खास योजना की घोषणा की थी। इस स्कीम का नाम “महिला सम्मान बचत पत्र” है। यदि आप भी निवेश के लिए सही सेविंग स्कीम की तलाश कर रहे हैं तो यह योजना आपके लिए अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। भारत सरकार की खास बचत योजना बालिकाओं या महिलाओं को आकर्षक ब्याज दर के साथ अच्छा रिटर्न भी मिलता है।

ऐसे उठायें योजना का लाभ

भले की योजना की पेशकश 1 फरवरी को हुई थी, लेकिन इसके लिए निवेश की शुरुआत 1 अप्रैल से होगी। नजदीकी पोस्ट ऑफिस और बैंक ब्रांच के जरिए इसका लाभ उठाया जा सकता है। इसके लिए आपको एक एप्लीकेशन फॉर्म भरना होगा। जिसके लिए पर्सनल और फाइनेंशियल जानकारी की जरूरत होगी। साथ ही नामांकन विवरण प्रदान करने की जरूरत भी होगी।

ये है स्कीम का कैलकुलेशन

महिला बचत पत्र (Mahila Samman Saving Certificate) ) का लाभ महिलायें मार्च 2025 तक उठा सकती हैं। स्कीम में 2 साल की अवधि के लिए 2 लाख रुपये तक के इनवेस्टमेंट की अनुमति होगी। योजना के तहत 7.5 फीसदी तक का ब्याज मिलता है। जो कई बैंकों के फिक्स्ड डिपॉजिट के मुकाबले ज्यादा है। लड़किया यान महिलायें आंशिक तौर पर पैसा भी निकाल सकते हैं। निवेशकों को पहले साल 15 हजार रुपये और दूसरे साल 16,125 रुपये का लाभ मिलेगा। स्कीम के तहत  100 रुपये के निवेश पर 31 हजार का फायदा हो सकता है।

मिलेगी टैक्स छूट की भी सुविधा

इस स्कीम पर मिलने वाला ब्याज पोस्ट की कई योजनाओं के अधिक है। जिसमें पब्लिक प्रोविडेंट फंड, किसान विकास पत्र और नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट भी शामिल हैं। योजना में टैक्स छूट की सुविधा भी मिलती है। फिलहाल, स्कीम उम्र और पात्रता से जुड़ी अधिक जानकारी सामने नहीं आई है। इस योजना में 10 वर्ष या उससे अधिक उम्र की बलिकाएं/महिलायें भी निवेश कर सकती हैं।

(Disclaimer: इस लेख का उद्देश्य केवल जानकारी साझा करना है। MP Breaking News किसी भी योजना या शेयर मार्केट में निवेश करने की सलाह नहीं देता।)


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News