2000 रुपये के नोट पर बड़ी अपडेट, करोड़ों के नोट सिस्टम में नहीं लौटे, आरबीआई ने जारी किया आंकड़ा, पढ़ें पूरी खबर

RBI Update on Rs 2000 Note

Rs 2000 Note Update: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने नए साल के पहले दिन 2000 रुपये के नोट को लेकर अपडेट जारी किया है। आरबीआई द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार अभी भी मार्केट में करोड़ों रुपये मूल्य के नोट चलन में हैं। बता दें कि भारत में 2000 रुपये के नोट 19 मई 2023 से ही प्रचलन में नहीं है। केन्द्रीय बैंक ने जनता को इन नोटों को वापस करने का निर्देश दिया था।

आरबीआई ने क्या कहा?

मई में कारोबार समाप्ति के दौरान 3.56 लाख रुपये के नोट सर्कुलेशन में थे। अब तक 97.38% नोट सिस्टम में वापस आ चुके हैं। लेकिन अभी भी बाजार में 9.330 करोड़ रुपये के नोट चलन में हैं। इन नोटों को लेकर आरबीआई ने वर्ष 2023 में अंतिम बार 1 दिसंबर को अपडेट जारी किया था। आरबीआई ने सोमवार को कहा, “2000 रुपये के नोट वैध मुद्रा (Legal Tender) में बने रहेंगे।” मतलब अभी भी इन्हें आप बदलवा सकते हैं।

कैसे बदल सकते हैं नोट?

बता दें कि बैंकों में जाकर 2000 रुपये के नोटों को जमा करने कि अंतिम तिथि 7 अक्टूबर 2023 थी। 9 अक्टूबर, 2023 से आरबीआई के निर्गम कार्यालयों में करेंसी को बदलवाने कि सुविधा शुरू है। इसके अलावा जिन भी लोगों के पास अभी भी 2000 रुपये के नोट हैं वे भारतीय डाक के जरिए आरबीआई के किसी भी जारी कार्यालय में नोट को वापस कर सकते हैं। केन्द्रीय बैंक के हैदराबाद, कोलकाता, चंडीगढ़, बेंगलुरू, भोपाल, गुवाहाटी समेत अन्य 19 कार्यालयों में नोट को बदलवाया जा सकता सकता है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News