RBI MPC Meeting: मौद्रिक नीति समिति की बैठक 6 जून से शुरू, रेपो रेट पर आरबीआई ले सकता है बड़ा फैसला, पढ़ें पूरी खबर

Manisha Kumari Pandey
Published on -
rbi action

RBI MPC Meeting: 6 जून यानि कल से आरबीआई गवर्नर शक्तिकान्त दास की अध्यक्षता में मौद्रिक नीति समिति की बैठक शुरू हो रही है, जो 8 जून तक जारी रहेगी। इस दौरान रेपो रेट को लेकर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया कोई फैसला सुना सकता है। पिछली बैठक में आरबीआई ने रेपो दरों में कोई बदलाव न करने का फैसला लिया था। महंगे लोन और बढ़ती ईएमआई ने जनता को परेशान कर दिया है। पिछले कुछ समय में महंगाई दरों में भी गिरावट देखी जा रही है, जिससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस बार भी केन्द्रीय बैंक रेपो रेट को स्थिर रखेगा।

कई एक्स्पर्ट्स का भी मानना है कि इस बार ब्याज दरों में कोई बदलाव होगा। वहीं आमजन और शेयर मार्केट में निवेश करने वालों को आरबीआई के फैसले का इंतजार है। इससे पहले एमपीसि मीटिंग का आयोजन 3- 6 अप्रैल को हुआ है। वर्तमान में रेपो रेट 6.5 फीसदी है। हालांकि अप्रैल के पहले महंगाई पर काबू पाने के लिए आरबीआई ने लगातार रेपो रेट में वृद्धि की है, कुल 2.5 फीसदी यानि 250 bps की वृद्धि मई 2022 से लेकर अब तक हो चुकी है।

एसबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक उम्मीद है कि जून नीति में दरों में कोई बदलाव आरबीआई द्वारा नहीं किया जाएगा। साथ ही जून पॉलिसी में वित्त वर्ष 2024 के लिए महंगाई के अनुमान को डाउनग्रेड किया जा सकता है।

सीपीआई के खुदरा महंगाई दर भी अप्रैल में 18 महीने के सबसे निचली स्तर पर रही, जो 4.7 फीसदी था। आरबीआई गवर्नर ने मई में खुदरा महंगाई दर अप्रैल से भी कम होने के संकेत दिए थे। संभावनाएं है कि ब्याज दरों में इस बार कोई बदलाव नहीं होंगे, इसपर फैसला 8 जून को आएगा। बता दें कि यह आरबीआई की अब तक 43वीं और वित्त वर्ष 2023-24 की दूसरी एमपीसी मीटिंग है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News