Sarkari Yojana: खेती और पशुपालन क्षेत्र के लिए बेस्ट हैं 3 सरकारी योजनाएं, मिलेगा मुनाफा कमाने का मौका

MP farmers

Sarkari Yojana: केंद्र और राज्य सरकार कृषि और पशुपालन क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए कई योजनाएं चलाती है। जिसके तहत किसानों को मुनाफा मिलता है। भारत कृषि प्रधान देश है। यहाँ की बड़ी आबादी खेती और पशुपालन पर ही निर्भर है। उनकी आय का स्त्रोत भी यही हैं। देश भर में एग्रीकल्चर को बढ़ावा देने के लिए केन्द्रीय सरकार द्वारा कुछ विशेष योजनाएं शुरू की है। ऐसे ही 3 स्कीम्स के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं:-

राष्टीय बागवानी मिशन

इस योजना को सब्जी के फसलों के उत्पादकता बढ़ाने और किसानों की आय में वृद्धि कराने के लिए शुरू किया गया है। अब तक यह स्कीम हजारों किसानों के लिए लाभकारी साबित हुई। इसके तहत किसानों फलों के पेड़, सब्जियों और औषधियों की खेती करने के लिए ट्रेनिंग, लोन और अनुदान की सुविधा दी जाती है।

नेशनल लाइवस्टॉक मिशन

राष्ट्रीय पशुधन मिशन के तहत सरकार किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करती है। साथ ही बड़े पैमाने पर मछली पालन, पशुपालन, मुर्गी पालन या एकाकृत कृषि के मॉडल से जुडने की सलाह भी जाती है। स्कीम के तहत पॉल्ट्री फार्म के साथ बकरी, भेड़ और सूअरों के रहने के लिए बाड़े का निर्माण और दाने-चारे के लिए 50 प्रतिशत सब्सिडी की व्यवस्था प्रदान करती

पीएम कुसुम योजना

यह केंद्र सरकार की बेहद खास योजना है, जो खेती के लिए चलाई जाती है। पीएम कुसुम योजना के तहत किसानों को सोलर पंप पर 50 फीसदी तक की सब्सिडी मुहैया करवाई जाती है। इसे सिंचाई की समस्या खत्म करने के उद्देश्य से शुरू किया गया है। सोलर पंप संयंत्र स्थापित करने के लिए लागत के 30 प्रतिशत का लोन भी मिलता है। किसानों के अलावा पंप पंचायतों और सहकारी समितियों को भी यह अनुदानीत कीमत पर मिलते हैं।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News