Tomato Price: जनता के लिए राहत भरी खबर, सस्ता हो सकता है टमाटर, MP से नई फसल आने का इंतजार

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Tomato Price: महंगे टमाटर ने जनता की रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। इसी बीच राहत भरी खबर सामने आई है। सरकार को उम्मीद है कि जल्द ही टमाटर के भाव में गिरावट आ सकती है। मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र से आने वाली फसल के बाद देशभर के खुद टमाटर के कीमतों में कमी आने की उम्मीद सरकार ने जताई है।

दरअसल, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने शुक्रवार को एक लिखित जवाब कहा, “महाराष्ट्र के नासिक, औरंगाबाद और नारायणगाँव बेल्ट और मध्यप्रदेश से नई नई फसल की आवक बढ़ने से टमाटर के भाव में कमी आने की उम्मीद है।” चौबे ने यह भी कहा कि, “टमाटर में कीमतों में वृद्धि किसानों को ज्यादा टमाटर की फसल उगाने के लिए प्रोत्साहित सक सकता है। जिसके कारण आने वाले महीनों में टमाटर के कीमतों में स्थिरता आने की उम्मीद है।”

मंत्री के मुताबिक उत्तरी भारत में जल्द ही मानसून आने से हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में टमाटर के फसलों पर गहरा प्रभाव पड़ा। वहीं कर्नाटक के कोलार में सफेद मक्खी की बीमारी के कारण फसल नष्ट हुई। इसके अलावा अलग-अलग स्थानों पर बारिश के कारण टमाटर के फसलों पर असर पड़ा।”

कुछ दिन पहले ग्राहकों को लाभ पहुँचाने के लिए प्रमुख उपभोग केंद्रों में निरंतर खुदरा निपटान के लिए कुल 391 टन टमाटर की खरीदारी हुई है। वहीं राष्ट्रीय सहकारी उपभोक्ता महासंघ और राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन महासंघ द्वारा देश के कई शहरों में 70 रुपये में एक किलो टमाटर बेचा रहा है। वहीं बारिश के कारण देश के कई स्थानों पर टमाटर की कीमत 200 रुपये प्रति किलोग्राम के पार पहुँच चुकी है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News