CBSE ने समर कैंप को लेकर जारी किया सर्कुलर, स्कूलों को दी ये सलाह, 15 जून तक मांगी रिपोर्ट, पढ़ें पूरी खबर 

सीबीएसई ने स्कूलों में समर कैंप को लेकर सर्कुलर जारी किया है। स्कूलों को विषय पर्यावरण दिवस से संबंधित गतिविधियों को आयोजित करने की सलाह दी है।

cbse news

CBSE Summer Camp: केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Central Board Of Secondary) छात्रों के हित में विभिन्न प्रकार की गतिविधियों का आयोजन करना है। बोर्ड ने अब सभी स्कूलों को ग्रीष्मकालीन शिविर से संबंधित सर्कुलर जारी किया है। सीबीएसई ने इको क्लब के तहत स्कूलों में समर कैंप आयोजित करने की सलाह दी है। साथ ही शिविर के दौरान आयोजित होने वाली गतिविधियों के आयोजन को लेकर दिशानिर्देश भी जारी है। बोर्ड ने इस बात की जानकारी सभी छात्रों और अभिभावकों को देने का अनुरोध भी किया है।

क्या है Eco Club?

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 तेजी से बदलते शब्दों में अच्छे सफल नवोन्वेषी अनुकूली इंसान बनाने के लिए सभी छात्रों को कुछ विषयों, कौशल और क्षमताओं को सीखने पर जोर देती है। जिसमें जल और संसाधन संरक्षण, स्वच्छता और पर्यावरण जागरूकता भी शामिल। Eco Club का गठन सीबीएसई द्वारा किया गया है। जिसमें ऐसे छात्र शामिल होते हैं, जो पर्यावरण से संबंधित मुद्दों में रुचि रखते हैं।

इन विषयों पर आयोजित करें समर कैंप में गतिविधियां

सीबीएसई ने “मिशन जीवन के लिए इको क्लब” विषय पर स्कूलों में समर कैंप आयोजित करने की सलाह दी है। गतिविधियों को लेकर भी सुझाव दिए हैं। बोर्ड ने नोटिस में कहा, “गितिविधियाँ आदर्श रूप से विश्व पर्यावरण दिवस पर शुरू हो सकती हैं, जो हर साल 5 जून को मनाया जाता है। इस साल विश्वपर्यावरण दिवस की थीं “भूमि बहाली, मरुस्थलीयकरण और सूखा लचीलापन है। इस थीम को ध्यान में रखते हुए और मिशन जीवन के सात विषयों में से प्रत्येक के लिए एक दिन समर्पित करते हुए समर कैंप का आयोजन किया जा सकता है।” आगे सीबीएसई ने कहा, “पहले दिन स्वस्थ जीवन शैली अपनाएं, दूसरे दिन सतत खाद्य प्रणाली अपनाएं, तीसरे दिन ई-अपशिष्ट कम करें, चौथे दिन अपशिष्ट कम करें, 5वें दिन ऊर्जा बचाएं, 6ठें पानी बचाएं और सातवें दिन एकल उपयोग प्लास्टिक को न कहें।”

बोर्ड ने इन विषयों पर आधारित गतिविधियों की सूची स्कूल बना सकते हैं। छात्रों के बीच लोकप्रिय एक्टिविटी जैसे कि पोस्ट प्रतियोगिताएं, पेटिंग प्रतियोगिता, वाद-विवाद आदि का आयोजन समर कैंप के दौरान कर  सकते हैं। कई प्रख्यात पर्यावरणवादी, शिक्षवादी और एनजीओ इस कार्य से जुटे हैं। समर कैंप को भी इस क्षेत्र से जोड़ा जा सकता है है।

महत्वपूर्ण दिशानिर्देश भी जारी

सीबीएसई ने सभी स्कूलों को स्थानीय प्रशासन/राज्य सरकार के दिशानिर्देश का पालन करते हुए ग्रीष्मकालीन शिविर का आयोजन करने की सलाह दी है। साथ ही प्रतिभागियों और स्टाफ को हिटवेब से बचने के लिए उचित व्यवस्था भी होनी चाहिए। बोर्ड ने समर कैंप को लेकर दिन वार एक संक्षिप्त रिपोर्ट भी मांगी है। जिसे स्कूल 15 जून से पहले https://forms.gle/Q6kcAa6G7btPGpZV8 पर अपलोड कर सकते हैं। https://merilife.nic.in/login पर जाकर स्कूल इन गतिविधियों के लिए रजिस्ट्रेशन भी कर सकते हैं।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"