छात्रों के लिए बड़ी अपडेट, सीयूईटी यूजी में हुए कई बदलाव, जल्द शुरू होंगे आवेदन, पढ़ें पूरी खबर

सीयूईटी यूजी परीक्षा में कई बदलाव हो सकते हैं। इस साल परीक्षा हाइब्रिड मोड में आयोजित होगी। एप्लीकेशन पोर्टल खुलते ही कैंडीडेट्स cuet.samarth.ac.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
cuet ug 2024

CUET UG 2024: कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट अंडरग्रेजुएट (सीयूईटी यूजी) को लेकर बड़ी अपडेट सामने आई है। प्रवेश परीक्षा में कई बदलाव किए गए हैं। इस साल परीक्षा हाइब्रिड मोड में आयोजित हो सकती है। इस फैसले से ग्रामीण क्षेत्र के उम्मीदवारों को लाभ होगा। वे अपने आवास के नजदीकी परीक्षा केंद्रों पर जाकर परीक्षा दे पाएंगे।

सीयूईटी यूजी में हुए ये बदलाव

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जिन विषयों के लिए अधिक पंजीकरण होंगे उनके लिए परीक्षा सीबीटी (Computer Based Test) के बजाए ओएमआर शीट का इस्तेमाल किया जाएगा। सीयूईटी यूजी परीक्षा के लिए इस बार हाई स्कूलों, कॉलेजों और शैक्षणिक संस्थानों को केंद्र बनाया जा जा सकता है। इस बार छात्रों को 10 नहीं 6 विषयों का विकल्प दिया जाएगा। यूजीसी अध्यक्ष एम कुमार के अनुसार  छात्र सभी 10 सब्जेक्ट ऑप्शन को नहीं चुनते। आंकड़ों के अनुसार ज्यादातर उम्मीदवार 4 या 5 पेपर ही देना पसंद करते हैं। इसलिए इस बार की परीक्षा में 6 विषयों का ऑप्शन ही मिलेगा।

कब शुरू होंगे आवेदन?

जल्द ही सीयूईटी यूजी के लिए आवेदन शुरू हो सकते हैं। 19 फरवरी से रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू होने की आशंका है। 15 से 31 मई तक परीक्षा का आयोजन होगा। इस बार तीन पालियों में एग्जाम होंगे। पहला शिफ्ट सुबह 9 बजे से 11 बजे तक होगा। दूसरा शिफ्ट दोपहर 12:30 बजे से लेकर 2 बजे तक और तीसरा शिफ्ट शाम 4 बजे से लेकर 5:30 बजे तक रहेगा। एप्लीकेशन पोर्टल खुलते ही कैंडीडेट्स cuet.samarth.ac.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे।

CUET PG पर भी अपडेट

सीयूईटी पीजी के लिए करेक्शन पोर्टल खुल चुका है। जिन भी उम्मीदवारों के आवेदन किया है, वे 13 फरवरी 2024 तक फॉर्म में सुधार कर सकते हैं। मंगलवार रात 11:30 बजे के बाद आवेदन में सुधार या बदलाव करने की अनुमति नहीं होगी। 11 मार्च से 28 मार्च तक देश के विभिन्न केंद्रों पर परीक्षा का आयोजन होगा। परीक्षा रोजाना तीन पालियों में आयोजित होगी।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News