MPPSC Prelims 2024: राज्य सेवा प्रारम्भिक परीक्षा के एडमिट कार्ड जारी, ऐसे करें डाउनलोड, 23 जून को एग्जाम, देखें लिंक 

23 जून को एमपीपीएससी राज्य सेवा प्रारम्भिक परीक्षा है। आयोग ने एडमिट कार्ड जारी कर दिए हैं। हॉल टिकट डाउनलोड करने के लिए एप्लीकेशन नंबर और डेट ऑफ बर्थ की जरूरत पड़ेगी।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
MPPSC Prelims 2024

MPPSC Prelims 2024 Admit Card: मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग (Madhya Pradesh Public Service Commission) ने राज्य सेवा और राज्य वन सेवा प्रारम्भिक परीक्षा (MPPSC Forest Service Examination) के लिए प्रवेश पत्र जारी कर दिए हैं। 23 जून से एमपीपीएससी प्रीलिम्स परीक्षा का आयोजन हो जा रहा है। जो भी अभ्यर्थी परीक्षा शामिल होने वाले हैं, वे ऑफिशियल वेबसाइट mppsc.mp.gov.in पर जाकर हॉल टिकट डाउनलोड कर सकते हैं।

एडमिट कार्ड में होती है ये जानकारी

एडमिट कार्ड में आवेदक का नाम, जन्मतिथि, रोल नंबर, आवेदक के पिता/पति का नाम और पासपोर्ट साइज़ फोटो समेत अन्य पर्सनल डिटेल्स होते हैं। इसके अलावा परीक्षा का नाम, परीक्षा केंद्र का नाम और पता, समय और परीक्षा के संबंधित दिशा-निर्देश होते हैं। उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे एडमिट कार्ड में परीक्षा से संबंधित गाइडलाइंस को जरूर करें और एग्जाम के दिन इनका पालन भी करें।

ऐसे डाउनलोड करें एडमिट कार्ड 

  • सबसे पहले ऑफिशियल वेबसाइट mppsc.mp.gov.in पर जाएं।
  • Notification के सेक्शन में जाकर “MPPSC Prelims Admit Card” के लिंक पर क्लिक करें।
  • नया पेज खुलेगा। यहाँ एप्लीकेशन नंबर और डेट ऑफ बर्थ दर्ज करें।
  • वेरीफिकेशन कोड दर्ज करके “Log in” बटन पर क्लिक करें।
  • स्क्रीन पर हॉल टिकट का दिखेगा। इसे डाउनलोड करें।
  • परीक्षा केंद्र में प्रस्तुत करने के लिए एडमिट कार्ड का प्रिन्ट आउट निकाल कर अपने पास रख लें।

परीक्षा के बारे में

बता दें कि एमपीपीएससी प्रारम्भिक परीक्षा में दो पेपर होते हैं, जिसमें सामान्य अध्धयन (General Studies) और सामान्य योग्यता (General Aptitude) शामिल हैं। एक पेपर की परीक्षा दो घंटे की होती है। जनरल स्टडीज और जनरल ऐप्टिटूड के लिए अधिकतम अंक 200-200 होते हैं। गलत जवाब पर किसी प्रकार की नेगेटिव मार्किंग नहीं होती है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News