Fake Online Courses: फर्जी ऑनलाइन कॉर्सेज को लेकर UGC ने जारी की चेतावनी, आमजन रहें सतर्क, पढ़ें खबर

यूजीसी ने फेक ऑनलाइन प्रोग्राम को लेकर पब्लिक नोटिस जारी किया है। 10 दिनों के एमबीए कोर्स को लेकर हितधारकों को सतर्क रहने की सलाह दी है।

Manisha Kumari Pandey
Updated on -
ugc updates

Fake Online Courses: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने फर्जी ऑनलाइन प्रोग्राम को लेकर अलर्ट जारी किया है। साथ ही आमजन को सतर्क रहने की सलाह दी है। इस लिस्ट में बीबीए, एमबीए इत्यादि फेक ऑनलाइन कार्यक्रम शामिल हैं। हाल में जारी एक नोटिस में यूजीसी ने कहा “कुछ व्यक्ति/ संगठन उच्च शिक्षा प्रणाली के मान्यता प्राप्त डिग्री कार्यक्रमों के समान संक्षिप्त रूपों के साथ ऑनलाइन पाठ्यक्रम पेश कर रहे हैं। 10 Days MBA ऐसे ही प्रोग्राम में से एक है, जिस पर आयोग का ध्यान गया है”

ऑनलाइन प्रोग्राम शुरू करने का प्रोसेस

किसी डिग्री का नामकरण उसके संक्षिप्त रूप अवधि और प्रवेश योग्यता सहित यूजीसी द्वारा केंद्र सरकार की पिछली मंजूरी के साथ आधिकारिक राज्य  पत्र में एक अधिसूचना के प्रकाशन के माध्यम से निर्देशित किया जाता है। इसके अलावा एक केंद्र अधिनियम या एक राज्य अधिनियम के तहत स्थापित किया निगमित एक विश्वविद्यालय या एक विश्वविद्यालय माने जाने वाला संस्थान या विशेष रूप से संसद के एक अधिनियम द्वारा शिक्षण संस्थानों को ही अधिकार प्रदान का अधिकार होता है।सभी हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूशंस को यूजीसी विनियमों के अनुसार किसी भी ऑनलाइन डिग्री कार्यक्रम को पेश करने के लिए आयोग से अनुमोदन प्राप्त करना करने की जरूरत होती है।

Continue Reading

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"