CG Weather: मानसून की सक्रियता बढ़ी, 20 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग का रेड अलर्ट जारी

मानसून द्रोणिका जैसलमेर, कोटा, गुना, जबलपुर, पेंड्रा रोड, निम्न दाबका केंद्र, और उसके बाद दक्षिण- पूर्व की ओर उत्तर अंडमान सागर तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है।

cg weather update

रायपुर, डेस्क रिपोर्ट । मानसून की सक्रियता बढ़ते ही छत्तीसगढ़ में झमाझम बारिश का दौर जारी है। मानसून द्रोणिका के प्रभाव और बंगाल की खाड़ी में बने रहे एक निम्न दाब के क्षेत्र के चलते आज 9 अगस्त मंगलवार को  भारी से अति वर्षा  की चेतावनी जारी की गई है। छत्तीसगढ़ मौसम विभाग (CG Weather Department) ने आज मंगलवार 9 अगस्त को रायपुर, दुर्ग और बस्तर संभाग में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया है।वही कई स्थानों पर बिजली चमकने और गिरने की भी संभावना है।

यह भी पढ़े.. MP: बुधवार को इंदौर-रीवा से चलेगी ये स्पेशल ट्रेन, वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंड़ी, 2 मेमू भी फिर शुरू, देखें शेड्यूल-रूट

सीजी मौसम विभाग (CG Weather Update) के अनुसार, मानसून द्रोणिका जैसलमेर, कोटा, गुना, जबलपुर, पेंड्रा रोड, निम्न दाबका केंद्र, और उसके बाद दक्षिण- पूर्व की ओर उत्तर अंडमान सागर तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है।1 निम्न दाब का क्षेत्र उत्तर- पश्चिम बंगाल की खाड़ी और उससे लगे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी- तटीय उड़ीसा- तटीय आंध्र प्रदेश के ऊपर स्थित है और ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवातीघेरा 7.6 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। इसके और प्रबल होकर अवदाब के रूप में परिवर्तित होने की संभावना है तथा यह पश्चिम -उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ते हुए उड़ीसा और छत्तीसगढ़ की ओर जा सकता है।
सीजी मौसम विभाग (CG Weather Alert) के अनुसार, मानसून द्रोणिका के साथ एक चिन्हित निम्न दाब का क्षेत्र उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी और उससे लगे पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर स्थित है, जो आज प्रबल होकर अवदाब के रूप में बदल सकता है। इसके प्रभाव से मंगलवार को प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। वही 9 अगस्त को प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने अथवा गरज चमक के साथ बौछार की संभावना है।मौसम के 3-4 दिनों तक ऐसे ही बने रहने के आसार है।

 

बता दे कि राज्य शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष द्वारा संकलित जानकारी के मुताबिक एक जून 2022 से अब तक राज्य में 650.0 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। राज्य के विभिन्न जिलों में 01 जून से आज आठ अगस्त तक रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार बीजापुर जिले में सर्वाधिक 1658.2 मिमी और सरगुजा में जिले में सबसे कम 273.3 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गयी है।

जिलेवार बारिश का रिकॉर्ड

राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से प्राप्त जानकारी के अनुसार एक जून से अब तक सूरजपुर में 370.6 मिमी, बलरामपुर में 311.0 मिमी, जशपुर में 354.5 मिमी, कोरिया में 386.4 मिमी, रायपुर में 423.4 मिमी, बलौदाबाजार में 577.3 मिमी, गरियाबंद में 719.2 मिमी, महासमुंद में 596.2 मिमी, धमतरी में 717.6 मिमी, बिलासपुर में 658.8 मिमी, मुंगेली में 658.9 मिमी, रायगढ़ में 576.9 मिमी, जांजगीर-चांपा में 735.2 मिमी, कोरबा में 486.9 मिमी, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में 585.1 मिमी, दुर्ग में 578.8 मिमी, कबीरधाम में 610.1 मिमी, राजनांदगांव में 662.7 मिमी, बालोद में 743.6 मिमी, बेमेतरा में 410.6 मिमी, बस्तर में 989.3 मिमी, कोण्डागांव में 746.0 मिमी, कांकेर में 858.1 मिमी, नारायणपुर में 744.7 मिमी, दंतेवाड़ा में 1029.7 मिमी और सुकमा में 737.2 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड की गई।

अबतक की अपडेट
  • पिछले 24 घंटे में कटेकल्याण मेें 36 सेेंटीमीटर, बास्तनार, बीजापुर में 20-20 सेमी, छिंदगढ़ मेें 18 सेमी, पखांजूर मेें 15 सेमी, गंगालूर मेें 13 सेमी, लोहांडीगुड़ा मेें 12 सेमी, जगदलपुर और कुटरु मेें 10-10 सेमी, दुर्ग, बारसूर, बलरामपुर मे 8-8 सेमी वर्षा हुई।
  • बस्तर संभाग में बिगड़े हालात, जनजीवन अस्त-व्यस्त ।
  • सोनारपाल के पास मरकण्डी नदी में बाढ़ का पानी भरने से जगदलपुर-रायपुर राष्ट्रीय राजमार्ग का सपंर्क टूटा।
  • जगदलपुर-चित्रकोट मार्ग देउरगांव भी बाधितजगदलपुर में इंद्रावती नदी खतरे के निशान (8.3 मीटर) से करीब डेढ़ मीटर ऊपर बह रही ।
  • नगरनार क्षेत्र के नदी किनारे के गांव नदी बोड़ना, भेजापदर, बस्तर ब्लाक में बोदरा, भैसगांव पानी से घिरे।
  • बीजापुर जिले में महाराष्ट्र और तेलंगाना को जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग बंद ।
  • सुकमा-मलकानगिरी के बीच झापरा के पास सड़क में पानी भरने ओडिशा का रास्ता भी बंद है।