Priyanka Chopra Birthday: 41 साल की हुई प्रियंका चोपड़ा, जानें ‘देसी गर्ल’ से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें

Manisha Kumari Pandey
Updated on -

Priyanka Chopra Birthday: 18 जुलाई 1982 को झारखंड के जमशेदपुर में प्रियंका चोपड़ा का जन्म हुआ था। आज अभिनेत्री अपना 41वां जन्मदिन मन रही हैं। देसी गर्ल न सिर्फ बॉलीवुड बल्कि हॉलिवुड में भी अपना परचम लहरा रही हैं। साथ ही पूर्व मिस वर्ल्ड भी रह चुकी हैं। निक जोनस के साथ शादी कर विदेश की बहू बन चुकी हैं। लेकिन आज भी भारत में अपनी बेहतरीन एक्टिंग और खूबसूरती के कारण लोगों के दिनों पर राज करती हैं। आइए प्रियंका चोपड़ा जोनस के बारे में कुछ दिलचस्प बातें जानें, जिसकी जानकारी बहुत कम लोगों को होती है

इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुकी हैं

अभिनेत्रो केवल एक्टिंग में ही बल्कि पढ़ाई में अच्छी हैं। उन्होनें मुंबई के प्रसिद्ध जय हिन्द कॉलेज से इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की है।

स्कूल में बन चुकी हैं उत्पीड़न का शिकार

आज प्रियंका को लोग उनके बोल्डनेस और बेबाक अंदाज के लिए जानते हैं। लेकिन बहुत लोग जानते हैं कि स्कूल में अभिनेत्री उत्पीड़न का शिकार हुई थी। उन्होनें इस बात का खुलासा एक इंटरव्यू के दौरान किया था और लोगों को उत्पीड़न (Bullying) से बचने के उपाय भी साझा किए थे।

आयरन मैन की हैं फैन

प्रियंका चोपड़ा को सुपरहीरो फिल्में देखना और कॉमिक पढ़ना बहुत पसंद हैं। वह मार्वल के Iron Man की बहुत बड़ी फैन हैं।

चॉकलेट खाना बेहद पसंद

जहां बॉलीवुड हसीनाएं अपने अच्छे फिगर के लिए डाइट करती हैं और मीठे से दूरी रखती हैं। वहीं प्रियंका चोपड़ा को मीठा खाना बहुत पसंद है। खासकर चॉकलेट उनका पसंदीदा है।

ऊंचाई से डर

ऑन-स्क्रीन प्रियंका काफी बहादुर नजर आती हैं। लेकिन उन्हें ऊंचाई से बहुत डर लगता है। अधिक हाइट पर जाते ही उन्हें घबराहट होती है।

मार्शल आर्ट्स और सिंगिंग में भी बेहतर

प्रियंका चोपड़ा जोनस को लोग उनके एक्टिंग के लिए जानते हैं। लेकिन अभिनेत्री प्रशिक्षित क्लासिकल गायक है। साथ ही वह बेहतरीन मार्शल आर्टिस्ट हैं, वह Taekendo में ब्लैक बेल्ट हैं। इसके अलावा बॉक्सिंग और कराटे में भी प्रशिक्षण ले रखा है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News