आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहित कर्मचारियों के मानदेय में 20 फीसद की वृद्धि, अप्रैल महीने से बढ़कर आएगी राशि

वहीँ कर्मचारियों के मानदेय में वृद्धि की घोषणा की गई है। जिसका लाभ उन्हें अप्रैल महींने से मिलेगा

employees news

जयपुर, डेस्क रिपोर्ट। देशभर में अप्रैल का महीना केंद्रीय कर्मचारियों (Central Employees) के साथ-साथ कई राज्य कर्मचारी के लिए भी खास होने वाला है। केंद्रीय कर्मचारियों के डीए में 3 फीसद की वृद्धि (DA Hike) की गई है। वहीं कई राज्य सरकार द्वारा भी डीए में वृद्धि की घोषणा की गई है। अप्रैल महीने में जहां मध्य प्रदेश सरकार द्वारा 11% डीए वृद्धि का ऐलान किया गया। वहीं बघेल सरकार द्वारा भी 3 फीसद वृद्धि जारी है। वहीं राजस्थान में Employees के मानदेय में वृद्धि (honorarium hike) की घोषणा की गई है।

दरअसल राजस्थान में मिड डे मील योजना के तहत शासकीय स्कूल में बच्चों को खाना बनाकर खिलाने वाले हेल्पर, कुक को 1 अप्रैल से बढ़े हुए मानदेय के हिसाब से वेतन का भुगतान किया जाएगा। इस मामले में आयुक्त द्वारा आदेश जारी कर दिए गए हैं। इससे पहले राजस्थान सरकार द्वारा बजट में हेल्पर कुक के लिए मानदेय में 20% की बढ़ोतरी की घोषणा की गई थी। जिसके लिए कर्मचारियों को अप्रैल महीने में लाभ मिलना निश्चित था।

Read More : MP स्कूली बच्चों की सुरक्षा पर आयोग सख्त, गाइडलाइन जारी, पुलिस वेरिफिकेशन होगा अनिवार्य

बता दे कि 1 अप्रैल से हेल्पर कुक सहित अन्य कर्मचारियों के मानदेय में 20% की वृद्धि की गई है। इससे पहले मानदेय 1500 से भी कम भुगतान किया जाता था। इससे पहले कर्मचारी 1500 रूपए से भी कम मान जा पाते थे लेकिन 20 फीसद की वृद्धि के साथ ही इन कर्मचारियों के मानदेय 1500 रूपए मासिक से बढ़कर ₹1800 रुपए तक पहुंच जाएंगे। उनके मानदेय में 200 रूपए से ₹300 की वृद्धि होगी।

इसके अलावा मानदेय वृद्धि का लाभ आशा आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सहित ग्राम पंचायत, सहायक टीचर स्टाफ, सहायक शिक्षक स्टाफ सहित पारा शिक्षक को मिलेगा। वही उनका वेतन अप्रैल महीने से बढ़कर 20% वृद्धि के साथ आएगी। इसके साथ ही इस सत्र से कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का भी लाभ दिया जाएगा। सीएम के घोषणा के मुताबिक 1 अप्रैल 2004 के बाद नियुक्त हुए कर्मचारियों की पुरानी पेंशन योजना बहाल करने की घोषणा की थी। इसके साथ ही 2017 के फैसले को वापस लेने की भी घोषणा की गई थी। इसके साथ ही सरकारी खजाने पर 1000 करोड़ रुपए का अतिरिक्त बोझ भी पड़ेगा।