कोरोना के बीच मप्र के 6 लाख हितग्राहियों को लाभ देंगे सीएम शिवराज

ज्ञात हो कि कोरोना महामारी के कारण और लगातार हो रहे लॉक डाउन से लोगों की आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हुई है। इस दौरान स्ट्रीट वेंडर्स का काम करने वाले छोटे कारोबारी पर विपरीत प्रभाव पड़ा है।

Tokyo Olympics

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में कोरोना (corona) की दूसरी लहर की मार सबसे अधिक छोटे व्यापारियों सहित आम जनता पर पड़ी है। छोटे व्यापारी सहित आम जनता आर्थिक परेशानी से गुजर रहे हैं। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) द्वारा ग्रामीण पथ विक्रेताओं को बड़ी राहत दी जा रही है। जहां आज सीएम शिवराज (cm shivraj) 6 लाख से अधिक हितग्राहियों को सामूहिक रूप से सहायता राशि वितरित करेंगे। इस दौरान ग्रामीण पथ विक्रेताओं को प्रदेश सरकार द्वारा एक-एक हजार रूपए सहायता राशि अनुदान स्वरूप दी जाएगी।

दरअसल शुक्रवार को शाम 4:00 बजे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान वर्चुअल माध्यम से प्रदेश के 6 लाख से अधिक पथ विक्रेता हितग्राहियों के खाते में रुपए हस्तांतरित करेंगे। इस दौरान सीएम शिवराज पथ विक्रेता से चर्चा भी करेंगे। ज्ञात हो कि इससे पहले मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना के अंतर्गत 2 लाख से अधिक ग्रामीण प्रवासी श्रमिकों को राज्य शासन की गारंटी पर 10-10 हजार रूपए का ऋण दिया जा चुका है।

Read More: तीसरी लहर को लेकर सख्त सीएम शिवराज, अधिकारियों को निर्देश- इन जिलों में बदले नियम

ज्ञात हो कि कोरोना महामारी के कारण और लगातार हो रहे लॉक डाउन से लोगों की आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हुई है। इस दौरान स्ट्रीट वेंडर्स का काम करने वाले छोटे कारोबारी पर विपरीत प्रभाव पड़ा है। जिसको देखते हुए शिवराज सरकार द्वारा मुख्यमंत्री स्ट्रीट वनडे योजना तैयार की गई जिसमें आइसक्रीम, फल, धोबी, साइकिल रिपेयरिंग, जूते चप्पल, झाड़ू, समोसा विक्रेता, हाथठेला, कुम्हार को इस योजना में शामिल किया गया था।

इसके अलावा योजना को पारदर्शी बनाने के लिए कामगर सेतु पोर्टल भी तैयार किए गए हैं। जिसमें 3 लाख से अधिक हितग्राहियों को ऋण राशि समय-समय पर वितरित की जा चुकी है अब 28 मई को होने वाले कार्यक्रम में एक साथ लगभग 6 लाख से अधिक पथ विक्रेताओं को एक एक हजार रुपए की सहायता राशि वितरित की जाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा दी गई राशि को पूर्णता अनुदान रखा गया है। जिसे कामगारों को वापस नहीं करना होगा।