MP में जल्द होगी पूर्व मुख्यमंत्रियों के सरकारी कारों की नीलामी, ये होगी प्रक्रिया

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में जल्द प्रदेश के 3 पूर्व मुख्यमंत्री (former chief minister) और अपने समय के दिग्गजों के साथ रहने वाली उनकी सरकारी कार (Government Cars) की नीलामी जल्द ही की जा सकती है। दरअसल राज्य सरकार (shivraj government) के स्टेट गैरेज (state garage) में खड़ी इन तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों की गाड़ी अगले महीने नीलाम की जाएगी। इसके लिए सरकार ने तैयारी कर ली है। पूर्व मुख्यमंत्रियों की कार सरकार के स्टेट गैरेज में खड़ी है। उनमें दिवंगत सुंदरलाल पटवा (sunder lal patwa), कैलाश जोशी (kailash joshi) और बाबूलाल गौर (babulal gaur) शामिल है। हालांकि इन नेताओं के परिजनों को भी इस नीलामी का बेसब्री से इंतजार है।

Read More: Reservation In Promotion: MP के हजारों अधिकारी-कर्मचारियों को लग सकता है बड़ा झटका, ये है कारण

दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री के परिजन भी उनके सरकारों को चलाने की ख्वाहिश रखते हैं और इसके लिए नीलामी प्रक्रिया (auction process)  में शामिल होकर इस कार की खरीदी का इंतजार कर रहे हैं। एक तरफ जहां पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी की कार उनके पोते जयवर्धन (jaivardhan) चलाने की ख्वाहिश रखते हैं। वहीं दूसरी तरफ सुंदरलाल पटवा के पास कत्थई रंग की एंबेस्डर (ambassdor) है। जिसकी भी नीलामी जल्द की जाएगी।

MP में जल्द होगी पूर्व मुख्यमंत्रियों के सरकारी कारों की नीलामी, ये होगी प्रक्रिया

Read More: Dabra News: डकैती की नीयत से घर में घुसे बदमाश, चलाई गोलियां

मामले में स्वर्गीय कैलाश जोशी के पुत्र और पूर्व मंत्री दीपक जोशी का कहना है कि यह कार्य हमेशा से उनके पिता की पसंदीदा कारों में से रही है। यह कार उनके हेरिटेज (heritage) है, जिसे वह संभाल कर रखेंगे। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा के भतीजे सुरेंद्र पटवा भी पूर्व मुख्यमंत्री के कारों की नीलामी के इंतजार में है। हालांकि अभी तक इन कारों की नीलामी रकम तय नहीं की गई है लेकिन इस मामले में PWD के अधिकारियों का कहना है कि PWD के इंजीनियर के वैल्यूएशन (valuation) के बाद इसकी बेस प्राइस (base price) तय की जाएगी। इसके लिए गृह विभाग के पास प्रस्ताव भेजा जा चुका है। वहीं माना जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्रियों की कारें 40 से 50 हजार रुपए में नीलाम हो सकती है।

इस एंबेसडर कार के बारे में बोलते हुए स्टेट गैरेज अधीक्षक का कहना है कि यह कार 2013-14 में खरीदी गई है और उसके बाद से यह तीनों पूर्व मुख्यमंत्रियों के पास रही है। हालांकि नेताओं के निधन के बाद किसी दूसरे नेता को यह कार नहीं दी गई। जिसके बाद सीए स्टेट गैरेज में ही खड़ी है और अभी इसकी नीलामी की जाएगी। माना जा रहा है कि अगले महीने से नीलाम किया जा सकता है और इसकी बोली लगाई जायेगी।