IMD Alert : सोमवार को होगी मानसून की पहली बारिश, 18 मई तक 12 राज्यों में बारिश का अलर्ट, उत्तर मध्य में लू की चेतावनी

साथ ही 26 मई तक मानसून (monsoon 2022) Kerala के पहुंचने की संभावना जताई जा रही है।

IMD Alert

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देशभर में जल्द एक बार फिर से पश्चिम विक्षोभ ((western disturbance) के एक्टिव होने के कारण के राज्य में मौसम (weather alert)  में बदलाव की स्थिति देखने को मिलेगी। दरअसल IMD Alert ने 17 मई के बाद कई राज्य में बूंदाबांदी (rainfall) के साथ घर चमक की संभावना जताई गई है। वहीं IMD Alert की माने तो अंडमान पहुंचने के साथ ही केरल, तमिलनाडु में भारी बारिश (rain) का दौर शुरू हो गया। केरल के 6 जिले में भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया गया है। साथ ही 26 मई तक मानसून (monsoon 2022) Kerala के पहुंचने की संभावना जताई जा रही है।

इससे पहले राजधानी दिल्ली सहित मध्यप्रदेश राजस्थान और छत्तीसगढ़ हरियाणा पंजाब में तापमान वृद्धि की संभावना जताई गई है। दरअसल तापमान में दो दिनों में 1 से 2 फीसद की वृद्धि देखी जा सकती है। वही पर्वतीय राज्य में भी तापमान में एक से दो फीसद की वृद्धि देखी जाएगी। हालांकि 18 मई के बाद पूर्वी राज्य सहित दक्षिणी राज्यों और उत्तर मध्य के कुछ हिस्से में बारिश का दौर शुरू होगा। बिहार झारखंड बंगाल छत्तीसगढ़ उड़ीसा में भी बूंदाबांदी देखने को मिलेगी। आसमान में बादल छाए रहेंगे। तापमान में गिरावट से मौसम सुहावना बना रहेगा।

भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने भीषण लू की चेतावनी जारी करते हुए रविवार को उत्तर-पश्चिम भारत के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया, जिसमें राजस्थान के लिए रेड अलर्ट भी शामिल है। एक वरिष्ठ वैज्ञानिक ने कहा राजस्थान के लिए भीषण गर्मी और कल के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। इसी तरह पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पूर्वी मध्य प्रदेश और दिल्ली के लिए Orange Alert जारी किया है।

IMD ने आगे कहा कल पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों से 48.8 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया था और दिल्ली ने भी 47 डिग्री सेल्सियस को पार किया था। अगर राजस्थान की बात करें तो यह भी 48 डिग्री को पार कर गया। उन्होंने कहा, “सामान्य तौर पर, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश सहित उत्तर पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में कल भीषण गर्मी की स्थिति का अनुभव हुआ है। विदर्भ में भी लू की स्थिति का जायजा लिया जा रहा है।

Read More : पेंशनर्स के लिए अच्छी खबर, DR में हुई वृद्धि, जून में बढ़कर आएगी पेंशन, मिलेगा 5 महीने का एरियर्स

मौसम के संबंध में, उन्होंने भविष्यवाणी की कि आने वाले पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर पश्चिम भारत को प्रभावित करने की संभावना है। IMD ने कहा जम्मू-कश्मीर के कुछ हिस्सों में आज से ही बादल छाए हुए हैं। इसलिए, हम 24 घंटों के बाद तापमान में उल्लेखनीय कमी की उम्मीद कर सकते हैं, जो अंततः ‘उत्तर पश्चिम भारत, विशेष रूप से पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में भीषण गर्मी की लहर’ की स्थिति को कम कर देगा।

राज्य में सोमवार से पश्चिमी विक्षोभ के कारण मौसम की स्थिति में सुधार होने की संभावना है। इधर मध्य प्रदेश में हीटवेव अगले दो-तीन दिनों तक तीव्रता में कमी के साथ जारी रहेगी। उत्तर प्रदेश में भी आज भीषण लू और सोमवार और उसके बाद हीटवेव की उम्मीद कर रहे हैं। केरल को हाई अलर्ट पर रखा गया है क्योंकि रविवार को राज्य के कई इलाकों में मूसलाधार बारिश हुई, जबकि भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने दो जिलों में रेड अलर्ट और छह अन्य जिलों में Orange अलर्ट जारी किया।

बंदरगाह शहर कोच्चि से भीषण जलजमाव की खबर है और निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है और जिला अधिकारियों को बचाव केंद्र खोलने के लिए कहा गया है। इसी तरह, सरकार ने लोगों को सलाह दी कि वे एक दो दिनों के लिए पहाड़ी इलाकों की यात्रा न करें। सरकार ने पुलिस और राजस्व अधिकारियों को हाई अलर्ट पर रखा है।

Read More : MP Politics : जीतू पटवारी का शिवराज सरकार पर वार, ग्वालियर-चंबल का क्षेत्र इन्हें दिया, इसलिए बढ़े क्राइम

राज्य के राजस्व मंत्री के राजन ने कहा हम हाई अलर्ट पर हैं और किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए सभी इंतजाम किए गए हैं। उन्होंने कहा कि सभी बांधों में जल स्तर अनुमेय स्तर से नीचे है और किसी को घबराने की जरूरत नहीं है। इडुक्की और एर्नाकुलम जिलों में सोमवार तक रेड अलर्ट और पठानमथिट्टा, अलापुझा, तिरुवनंतपुरम, कोट्टायम, त्रिशूर और मलप्पुरम जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी रहेगा।

रेड अलर्ट 24 घंटों में 20 सेमी से अधिक की भारी से अत्यधिक भारी बारिश का संकेत देता है और नारंगी 6 सेमी से 20 सेमी की भारी बारिश को संदर्भित करता है और येलो अलर्ट का मतलब 11 सेमी तक की बारिश है। आमतौर पर प्री-मानसून अवधि में सामान्य वर्षा 213.7 मिमी वर्षा होती है, लेकिन इस बार वर्षा 369.3 मिमी थी, जो कि 70 प्रतिशत की वृद्धि है। आईएमडी के आंकड़े बताते हैं। चूंकि राज्य ने प्री-मानसून बारिश को पार कर लिया है। इसलिए अधिकारी आगे भारी मानसून के मौसम को पूरा करने के लिए तैयार हैं।

साथ ही आईएमडी ने रविवार और सोमवार को केरल वितरित तिरुअनंतपुरम अति भारी बारिश की संभावना जताई है। दरअसल एक पत्र में कहा गया कि निम्न मंडल स्तर में अरब सागर से दक्षिण प्रदीप भारत की और तेज हवा के प्रभाव के कारण केरल और लक्षद्वीप में आज से 5 दिन तक व्यापक वर्षा की संभावना जताई जा रही है। वहीं लोगों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं।

17 और 18 मई को भी केरलटैक्सेस दूर दक्षिणी पूर्वी सागर लक्ष्यदीप क्षेत्र में हवा की रफ्तार को लेकर खराब मौसम की चेतावनी जारी की गई है। वहीँ मछुआरों को के अधिक गहराई में जाने से मना किया गया है। सोमवार से मंगलवार तक अंडमान में मानसून की पहली बारिश रिकॉर्ड की जाएगी।