IMD Alert : 19 अप्रैल से फिर एक्टिव होगा पश्चिमी विक्षोभ, 23 अप्रैल तक 12 राज्यों में बारिश का अलर्ट, 8 में हीटवेव की चेतावनी

हालांकि पूर्वी और दक्षिणी राज्य में बारिश का (rain alert) दौर जारी रहेगा।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। पश्चिमी विक्षोभ (Western disturbance) का असर पूरी तरह से खत्म हो गया है। जिसके बाद उत्तर मध्य भारत में हीटवेव (heatwave) का अलर्ट जारी रहेगा। IMD Alert की मानें तो 17 अप्रैल से पंजाब चंडीगढ़ दिल्ली राजस्थान मध्य प्रदेश और उत्तराखंड में ही हीट वेव का अलर्ट जारी कर दिया गया है। वहीं आईएमडी (IMD) ने लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी है। आईएमडी के मुताबिक उत्तर मध्य भारत में 20 अप्रैल तक अलग-अलग इलाकों में हीटवेव की गंभीर स्थिति देखने को मिल सकती है। हालांकि पूर्वी और दक्षिणी राज्य में बारिश का (rain alert) दौर जारी रहेगा।

उत्तर पश्चिम राज्यों के कई क्षेत्रों में 21 अप्रैल तक दिनों में लू का नया दौर देखने को मिलेगा। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, उत्तर पश्चिम भारत में 17 अप्रैल से शुरू हुई एक हीटवेव स्पेल रविवार को मध्य भारत में फैलने की संभावना है। IMD अलर्ट की माने तो राजधानी दिल्ली में भीषण गर्मी की आशंका जताई गई है। तापमान में दो से तीन फीसद की बढ़ोतरी देखी जा सकती है।

इसके अलावा 18 अप्रैल की रात में एक नई पश्चिम विक्षोभ के एक्टिव होने की संभावना है। पश्चिम विक्षोभ के पश्चिमी भारत को प्रभावित करने की उम्मीद जताई गई है। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो 19 और 20 अप्रैल को पश्चिमी हिमालय क्षेत्र सहित पर्वतीय राज्य में हल्की बूंदाबांदी और गरज़ चमक के साथ बिजली गिरने की संभावना जताई गई है। साथ ही 20 से 22 अप्रैल तक पंजाब में भी मौसम में बदलाव देखने को मिल सकते हैं।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, 17 अप्रैल तक पूरे उत्तर पश्चिम भारत और मध्य प्रदेश में भीषण गर्मी बनी रहेगी। मौसम विभाग ने आगे कहा कि तमिलनाडु-पुदुचेरी-कराइकल, असम-मेघालय और अरुणाचल प्रदेश, केरल-माहे में 17 अप्रैल तक व्यापक वर्षा जारी रहेगी।

Read More : EPFO ने EPS-95 पेंशनर्स को दी बड़ी राहत, इस तरह उठा सकेंगे लाभ, समय पर मिलेगी पेंशन की राशि

आईएमडी के मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक 20 अप्रैल के दौरान हिमाचल प्रदेश जम्मू डिवीजन के अलग-अलग इलाकों में ही हीट वेव की स्थिति जारी की गई है। साथ ही उत्तर प्रदेश विदर्भ पश्चिम बंगाल सहित बिहार और झारखंड में तापमान में वृद्धि देखी जाएगी। 22 अप्रैल तक यहां भीषण गर्मी के साथ लू का अलर्ट जारी किया गया है।

तापमान की बात करें तो राजधानी दिल्ली सहित अन्य इलाकों में तापमान में बेहद बढ़ोतरी देखी जा रही है। राजधानी दिल्ली में बीते दिनों तापमान में 2 फीसद की वृद्धि रिकॉर्ड की गई है। वहीं राजस्थान मध्य प्रदेश के कई इलाकों में पारा 45 डिग्री के करीब पहुंच चुका है। राजधानी लखनऊ में भी तापमान में वृद्धि देखी जा रही है। कई क्षेत्रों में हीट वेव का अलर्ट जारी किया गया है। इसके अलावा राजधानी पटना में भी न्यूनतम तापमान 20 डिग्री व अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है।

राजधानी रांची की बात करें तो न्यूनतम तापमान 22 डिग्री जबकि अधिकतम तापमान 44 डिग्री तक रिकॉर्ड किया गया है। हरियाणा के गुरुग्राम में अधिकतम तापमान 42 डिग्री जबकि पंजाब में अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक रिकॉर्ड किए गए हैं। उत्तरी राजस्थान में चक्रवाती हवा का क्षेत्र बना हुआ है। जिससे गर्म लू चलने की संभावना जताई गई है।

IMD की मानें तो 24 घंटे के दौरान पूर्वोत्तर भारत और दक्षिण भारत में बारिश देखने को मिलेगी। बारिश से जनजीवन सामान्य बना हुआ। जम्मू कश्मीर हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड में छिटपुट हुई बारिश से मौसम सुहावना बना हुआ है। हालांकि गिलगिट-बाल्टिस्तान मुजफ्फराबाद में भी बारिश का दौर देखने को मिल रहा है। वहीं दक्षिणी राज्यों के बाद करें तो मध्य महाराष्ट्र सहित कर्नाटक, उड़ीसा और पश्चिम बंगाल के कुछहिस्से में गरज चमक के साथ बूंदाबादी देखने को मिली है।

Read More : PM Kisan : लाखों अपात्र किसानों के खाते में पहुंचे 4,350 करोड़, वसूली की तैयारी, चेक करें अपना भी नाम

वर्षा पूर्वानुमान

IMD ने अगले पांच दिनों 25 अप्रैल के दौरान अरुणाचल प्रदेश, असम-मेघालय और नागालैंड-मणिपुर-मिजोरम-त्रिपुरा में गरज के साथ भारी बारिश की भविष्यवाणी की है। 17 और 22 अप्रैल को अरुणाचल प्रदेश, असम-मेघालय और नागालैंड-मणिपुर-मिजोरम-त्रिपुरा में भी भारी बारिश की संभावना है।

मौसम विभाग ने अगले 7 दिनों के दौरान, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में गरज-चमक के साथ छिटपुट वर्षा की आशंका जताई है। IMD के अनुसार 17 से 25 अप्रैल तक तमिलनाडु के घाट भागों में भारी वर्षा की काफी संभावना है। पूरे केरल, माहे में 16 से 22 अप्रैल तक, 15 से 23 अप्रैल तक दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में, और 18 अप्रैल को उत्तर आंतरिक कर्नाटक में बारिश होगी। 25 अप्रैल को दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में भी अत्यधिक भारी बारिश की संभावना है।

Read More : MP Board : 9वीं-10वीं छात्रों के लिए बड़ी खबर, नए सत्र में बदलेगा पैटर्न, इस तरह तैयार होंगे रिजल्ट, समिति को भेजा गया प्रस्ताव

हीटवेव पूर्वानुमान

17 से 22 अप्रैल तक पंजाब, हरियाणा-चंडीगढ़-दिल्ली और राजस्थान, हिमाचल प्रदेश 17 से 23 अप्रैल तक; 16 से 22 अप्रैल तक जम्मू संभाग, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश 17 से 24 अप्रैल तक और 19 से 23 अप्रैल तक बिहार, सौराष्ट्र और कच्छ में अलग-अलग इलाकों में हीटवेव की स्थिति होने की संभावना है। साथ ही 17 से 22 अप्रैल को पंजाब, हरियाणा-चंडीगढ़-दिल्ली में भीषण लू लगने की संभावना है।

पुणे में दिन के तापमान में वृद्धि दर्ज की गई है। मौसम विभाग ने 17-18 अप्रैल तक विदर्भ सहित मध्य भारत के कुछ हिस्सों में एक ताजा हीटवेव स्पेल की भविष्यवाणी की है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने शनिवार को चेतावनी दी कि आने वाले दिनों में पुणे के कुछ हिस्सों, जैसे कि मगरपट्टा और चिंचवड़ में तापमान 42 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ सकता है। आईएमडी ने बताया कि परिणामस्वरूप, पुणे और उसके आस-पास के जिलों में जल्द ही “heatwave” का अनुभव हो सकता है।

अगले कुछ दिनों के दौरान उत्तर पश्चिम और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में हीटवेव की स्थिति की उम्मीद की जा रही है। मध्य भारत में लू का प्रकोप रविवार से शुरू होगा और सोमवार को धीरे-धीरे विदर्भ में फैल जाएगा। उत्तर-पश्चिम भारत से उत्तर-पश्चिमी और उत्तर-पूर्वी हवाएँ महाराष्ट्र में चल रही हैं। उत्तर भारत के ये क्षेत्र पहले से ही हीटवेव की स्थिति से जूझ रहे हैं और वहां से चलने वाली हवा से भी इसके प्रभाव में आने वाले क्षेत्रों में तापमान बढ़ने की संभावना है।

अधिकारी ने कहा कि मध्य महाराष्ट्र के उत्तरी हिस्से जैसे जलगांव, धुले, नासिक और यहां तक ​​कि पुणे के कुछ हिस्से इस समय इन हवाओं के प्रभाव में हैं। “हालांकि, मध्य महाराष्ट्र के लिए अभी भी हीटवेव की स्थिति का अनुमान नहीं लगाया गया है। हम स्थिति की लगातार निगरानी कर रहे हैं।