Jabalpur News: सिस्टम से हारा अधेड़, जहर खाकर की आत्महत्या

Jabalpur: मजबूर होकर उसने आत्महत्या का रास्ता अपनाया।

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर (jabalpur) के त्रिपुरी चौक में रहने वाले 51 साल की अधेड़ ने बुधवार की रात जहर खाकर आत्महत्या (suicide) कर ली। अधेड़ सिस्टम (system) से परेशान हो गया था। इसलिए तंग आकर उसने जहर खा लिया। आनन फानन में उसे मेडिकल कॉलेज ले जाया गया। जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि अधेड़ अपने मकान को लेकर परेशान था। शासन से भी उसे योजनाओं का लाभ नही मिल पा रहा था।

अतिक्रमण में टूट गया था मकान

मृतक का नाम शिव शंकर कोस्टा था। वह समोसा अलूबन्दा का ठेला लगाकर किसी तरह अपने परिवार का भरण पोषण करता था। बीते साल अतिक्रमण में शासन ने उसका मकान तोड़ दिया। बाद में उसे तिलहरी में जमीन भी दी गई। साथ ही ढाई लाख रु मकान बनाने को मिलना था पर उसे 1 लाख रु ही मिले। इतने कम पैसो में वह कैसे मकान बना पाता इसी को लेकर वह बीते कुछ दिनों से परेशान था।

Read More: दीपावली पर इस विभाग के कर्मचारियों को मिलेगा आधा Bonus, खाते में आएगी इतनी राशि

मृतक के दो बेटे दोनो ही पढ़े लिखे

जानकारी के मुताबिक समोसा-अलूबन्दा का ठेला लगाने वाले शिव शंकर कोस्टा के दो बेटे है और दोनो ही अच्छे पढ़े लिखे। एक बेटे ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और नोकरी की तलाश में भोपाल गया हुआ है। जबकि उसका एक बेटा जबलपुर में है जो कि प्राइवेट नोकरी कर रहा है। शिव शंकर चाह रहा था कि जल्द से जल्द उसका मकान बन जाए। जिसमे वह अपने परिवार के साथ रह सके। पर शासन की तरफ से उसे मकान बनाने के लिए रु नही मिल रहे थे। मकान के लिए उसके खाते में सिर्फ 1 लाख रु ही आए थे।

किराए से झोपड़ी बनाकर रह रहा था शिव शंकर

त्रिपुरी चौक में शिव शंकर का मकान था पर अतिक्रमण में उसका मकान आ रहा था। जिसे की प्रशासन ने तोड़ दिया। इसके एवज में उसे ढाई लाख रु मिलने थे पर उसके खाते में सिर्फ 1 लाख रु ही आए। इतने कम रु में सिर्फ लोहा और रेत ही आ रहा था। मकान कैसे बनता यह चिंता उसे काफी दिनों से सता भी रही थी। मजबूर होकर उसने आत्महत्या का रास्ता अपनाया।