जाने आपको मिलेगी या नहीं PM Kisan की 10वीं किस्त, खाते में जल्द भेजे जाएंगे 2000 रुपए

PM Kisan : किस्त जहां अप्रैल-जुलाई के बीच दी गई है, वहीं दूसरी और तीसरी किस्त अगस्त-नवंबर और दिसंबर-मार्च के बीच दी गई है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। केंद्र सरकार ने देश में किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए कई योजनाएं शुरू की हैं। ऐसी ही एक लाभकारी योजना है पीएम किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan yojna), जो किसानों (farmer) के लिए है। भारत में लाखों किसान हैं, जिन्होंने अपना पंजीकरण कराया है, और प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना की 10वीं किस्त प्राप्त करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

ऐसी रिपोर्टें हैं जो संकेत देती हैं कि यह राशि नए साल से पहले यानी 1 जनवरी, 2022 से पहले किसानों को वितरित की जाएगी। किसानों को यह राशि 15 दिसंबर, 2021 को मिलने वाली है, इसके लिए उलटी गिनती शुरू हो गई है। गौरतलब है कि पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को हर साल 2,000 रुपये की 3 किस्तों में 6,000 रुपये की नकद राशि दी जाती है। पहली किस्त जहां अप्रैल-जुलाई के बीच दी गई है, वहीं दूसरी और तीसरी किस्त अगस्त-नवंबर और दिसंबर-मार्च के बीच दी गई है।

Read More: अपनी फीलिंग को लेकर बेहद संवेदनशील होती है ये राशियां, फुल टाइम कमिटमेंट को देती है महत्व

ऐसे में अगर आप किसान हैं और पीएम किसान सम्मान निधि के तहत मिलने वाला पैसा पाना चाहते हैं, तो यहां चेक करें कि आपका नाम लाभार्थियों की सूची में है या नहीं यानी 2000 रुपये मिलेंगे या नहीं।

पीएम किसान सम्मान निधि योजना में अपना नाम कैसे चेक करें

  • सबसे पहले, आपको आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा, इसके लिए https://pmkisan.gov.in/
    पर जाये
  • होम पेज के दाईं ओर किसान कॉर्नर टैब पर क्लिक करें।
  • अब लाभार्थी स्थिति के विकल्प पर क्लिक करें।
  • अपना राज्य, जिला / उप जिला और ब्लॉक और गांव चुनें।
  • रिपोर्ट प्राप्त करें विकल्प पर क्लिक करें।
  • अब आप अपना नाम पीएम किसान सम्मान निधि योजना लाभार्थी सूची में देख सकते हैं, जो आपकी स्क्रीन पर दिखाई देगा और आप पुष्टि कर सकते हैं कि आपको लाभ मिलेगा या नहीं।

मोबाइल ऐप के जरिए अपना नाम कैसे चेक करें अपना नाम

  • इसके लिए उन्हें सबसे पहले पीएम किसान मोबाइल एप डाउनलोड करना होगा।
  • एक बार जब वे ऐप डाउनलोड और साइन इन कर लेते हैं, तो उनके पास लाभार्थी सूची सहित सभी विवरण तक पहुँच जायेंगे।