लोकायुक्त टीम की बड़ी कार्रवाई, प्रभारी प्राचार्य को 10 हजार रूपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोचा

MP News : दूसरी किस्त की राशि 10 हजार रूपए लेने के दौरान लोकायुक्त की टीम ने प्राचार्य को रंगे हाथों रिश्वत की राशि लेते गिरफ्तार किया।

मंडला, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) में भ्रष्टाचार (Corruption) पर कार्रवाई जारी है। लोकायुक्त (lokayukt) की टीम द्वारा भ्रष्टाचार अधिकारी कर्मचारियों की धरपकड़ की कार्रवाई मंडला (mandla) में की गई है। दरअसल मामला में लोकायुक्त की टीम (lokayukt team) ने प्रभारी प्राचार्य को शिक्षक से रिश्वत (bribe) लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है।

लोकायुक्त टीम के मुताबिक शिक्षक हेमंत कुमार प्रयोगशाला सहायक के रूप में मंडला के जन शिक्षा केंद्र में कार्यरत है। उनकी शिकायत पर ही लोकायुक्त टीम द्वारा कार्रवाई की गई है। लोकायुक्त टीम के अधिकारी घनश्याम मर्सकोले ने जानकारी देते हुए बताया कि हेमंत कुमार के मंडला के प्राचार्य राजकुमार यादव द्वारा बाजा गोरिया में पदस्थापना कराने के लिए 20000 रिश्वत की मांग की गई थी। जिसकी शिकायत शिक्षक ने लोकायुक्त टीम को की थी।

Read More : MPPSC Exam 2021: उम्मीदवारों के लिए राहत भरी खबर, परीक्षा की अधिसूचना जारी, यहां देखें अपडेट

वही कार्रवाई करते हुए लोकायुक्त की टीम ने स्कूल के कार्यालय में जब शिक्षक 10000 की राशि प्राचार्य राजकुमार यादव को दे रहे थे। उस वक्त टीम ने मौके पर दबिश दी और रिश्वत के साथ प्राचार्य को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। मामले में पीड़ित का कहना है कि वह नादिया प्राइमरी स्कूल में पदस्थ थे। जहां से बाजा बोरिया में सहायक आयुक्त कार्यालय की पदस्थापना के लिए प्राचार्य राजकुमार यादव ने 40 हजार रूपए की मांग की थी।

वहीं 20 हजार रूपए में सौदा तय हुआ था। वही 20 हजार रूपए की पहली किस्त 10 हजार रूपए प्राचार्य को पहले ही दी जा चुकी थी। वहीं दूसरी किस्त की राशि 10 हजार रूपए लेने के दौरान लोकायुक्त की टीम ने प्राचार्य को रंगे हाथों रिश्वत की राशि लेते गिरफ्तार किया।